यूपी में एंटी रोमियो दल पर सोशल मीडिया में चर्चा जारी

  • 22 मार्च 2017
उत्तर प्रदेश इमेज कॉपीरइट Mirzapur Police

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के 'संकल्प पत्र' का हिस्सा रहे 'महिला सुरक्षा के मुद्दे' को लेकर यूपी पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है.

लखनऊ ज़ोन के पुलिस महानिरीक्षक सतीश भारद्वाज ने मंगलवार को यूपी के 11 ज़िलों में महिलाओं से छेड़खानी रोकने के लिए 'एंटी रोमियो दल' बनाने का ऐलान किया था. बुधवार सुबह इस कार्रवाई का असर ख़बरों में देखने को मिला.

बुधवार सुबह यूपी पुलिस ने 'एंटी रोमियो दल' से जुड़ीं तमाम ख़बरें अपने ऑफ़िशियल ट्विटर हैंडल @Uppolice से ट्वीट कीं.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

भाजपा के 'संकल्प पत्र' में एंटी रोमियो दल के गठन की बात कही गई थी, जिसे योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के बाद तैयार किया गया है.

यूपी पुलिस ने दावा किया कि सूबे की आधी आबादी को इस मुहिम के बाद पुख़्ता सुरक्षा मिल सकेगी.

पुलिस महानिरीक्षक सतीश भारद्वाज ने कहा है कि 11 ज़िलों में यह विशेष अभियान एक महीने तक चलेगा. उसके बाद इस कार्यक्रम की समीक्षा की जाएगी.

यूपी पुलिस ने इन टीमों की गठन प्रक्रिया को लेकर कोई साफ जवाब नहीं दिया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

मंगलार शाम ख़बरें आईं थीं कि लखनऊ के ही नेशनल पीजी कॉलेज के बाहर बिना काम के घूम रहे लड़कों से पुलिस ने पूछताछ की. साथ ही संदिग्ध दिखे उनके घरवालों तक बात पहुंचा दी.

यूपी पुलिस ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि कॉलेज और यूनिवर्सिटी के इलाकों में घूमते सहपाठी लड़के-लड़कियों को किस कानून के तहत पकड़ा जाएगा.

सोशल मीडिया पर तमाम लोग यूपी पुलिस से यह सवाल कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

@sakshichopra5 हैंडल से साक्षी ने ट्वीट किया, "क्या यही है नया उत्तम प्रदेश? पहले जींस पहनने पर, फ़ोन इस्तेमाल करने पर और प्यार करने पर खाप पंचायतों का पहरा था. अब लगता है सांस लेने में भी दिक्कत होने वाली है."

हालांकि सोशल मीडिया पर कई लोग यूपी पुलिस की इस कार्रवाई सराह रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे