सोशल- सुरंग का श्रेय मोदी या मनमोहन को देने पर बहस

ट्विटर इमेज कॉपीरइट Twitter

रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर देश की सबसे लंबी सड़क सुरंग का उद्घाटन किया. प्रधानमंत्री ने 9.2 किलोमीटर लंबी इस सड़क सुरंग की दूरी एक खुली गाड़ी से तय की. इस उद्घाटन को लेकर कांग्रेस ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है.

कांग्रेस पार्टी में मीडिया सेल के प्रमुख रणदीप सिंह सूरजेवाला ने ट्वीट किया, ''प्रधानमंत्री जी 3 वर्षों से यूपीए की परियोजनाओं का फीता काट रहे हैं और कांग्रेस ने कुछ नही किया का ज्ञान बाँट रहे हैं.'' इस परियोजना की शुरूआत मई 2011 हुई थी.

इस सुरंग के उद्घाटन से जुड़े ट्वीट के कारण जल्द ही ट्विटर पर #Tunnel2Progress ट्रेंड करने लगा.

मोदी ने कटरा रेल लाइन का उद्घाटन किया

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्विटर पर कई लोग इसके लिए केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की तारीफ़ कर रहे हैं तो दूसरी तरफ़ लोगों का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी अपने पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह द्वारा शुरू किए गए प्रोजेक्टों का फीता काट रहे हैं.

वाइब्रेंट गुजरात का उद्घाटन करेंगे मोदी

उत्तम सेनगुप्ता नाम के ट्विटर हैंडलर से ट्वीट हुआ, ''नरेंद्र मोदी को पूर्ववर्ती मनमोहन सरकार की एक और योजना का उद्घाटन करने का मौक़ा मिला.''

सब गोलमाल है ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया, ''इसे यूपीए2 ने 2010 में शुरू किया था. मोदी के पीएम बनने से पहले इसका काम 40 फ़ीसदी हो गया था. ऐसे में इसका श्रेय कोई अकेले कैसे ले सकता है?''

इमेज कॉपीरइट Twitter

मिस्टर लेज़ी नाम के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया है, ''नरेंद्र मोदी के विज़न के नितिन गडकरी वाहक हैं. उन्होंने देश की सबसे लंबी सड़क सुरंग बनाकर इसे साबित कर दिया है.''

मिस्टर इंडिया नाम से एक शख़्स ने ट्वीट किया, ''भक्तों को यह जानने की ज़रूरत है कि यूपीए सरकार के विज़न के कारण यह सुरंग बनी और मोदी केवल फीता काट रहे हैं.''

उधर सर रवींद्र जडेजा ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया- "जब लोग आप पर पत्थर फेंकें तो उनका इस्तेमाल सफ़लता की सड़क और सपनों की सुरंग के निर्माण के लिए करें."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कई समर्थकों ने #NewInfra4NewIndia ट्रेंड पर उन्हें विकास पुरूष और मूलभूत ढांचा खड़ा करने वाले नेता बताकर सोशल मीडिया पर उनकी सराहना भी की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे