सोशल मीडिया: 'तरुण विजय को दक्षिण भारत में घुसने ना दें'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भाजपा नेता तरुण विजय के एक बयान पर बखेड़ा खड़ा हो गया है. हाल में भारत में अफ़्रीकी मूल के लोगों पर हमले हुए थे जिस पर सफ़ाई देते वक़्त वो कुछ ऐसा बोल गए जिस पर नया विवाद शुरू हो गया.

अल जज़ीरा चैनल की एक परिचर्चा में हिस्सा लेते हुए उन्होंने कहा, ''अगर हम नस्लीय होते तो दक्षिण भारतीयों के साथ क्यों रहते? आप जानते हैं ना उनके बारे में...तमिल, केरल, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश. हम उनके साथ क्यों रहते फिर. हमारे यहां चारों तरफ़ काले लोग हैं.''

इस मामले ने जब तूल पकड़ा तो विजय ने सोशल मीडिया पर सफ़ाई दी.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

उन्होंने टि्वटर पर लिखा, ''मैंने कहा था कि हम कृष्ण की पूजा करते हैं, जिनका मतलब ही काला है. हम किसी भी तरह के नस्लभेद का विरोध करने वाले पहले शुरुआती लोग थे. ये सुनने में काफ़ी ख़राब और बुरा है और हमारे यहां कभी कोई नस्लवाद नहीं था.''

भाजपा नेता ने आगे लिखा, ''देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरह के लोग रहते हैं और उनके ख़िलाफ़ कोई भेदभाव नहीं किया जाता. मेरे हिसाब से पूरा बयान ये था - हमने नस्लभेद से जंग लड़ी है और हमारे यहां अलग-अलग रंग और संस्कृति के लोग हैं.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

उन्होंने कहा कि जो बनाकर पेश किया जा रहा है, ऐसा उन्होंने कुछ कभी कहा ही नहीं. विजय ने कहा, ''मैं मर सकता हूं लेकिन अपनी संस्कृति के ख़िलाफ़ कुछ नहीं कह सकता. मेरे वाक्य का गलत मतलब निकालने से पहले सोचिए ज़रूर. और मैंने कभी दक्षिण भारत को अश्वेत नहीं कहा. गुस्सा जताने से पहले शो देख लीजिए.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

विजय अपने बयान पर सफ़ाई दे रहे हैं लेकिन सोशल मीडिया पर लोग इस बात पर नाराज़गी जता रहे हैं.

सत्वहना हैंडल से लिखा गया है, ''समस्या ये है कि तरुण विजय को लग नहीं रहा कि उन्होंने कुछ गलत बोला है. नस्लवाद हमारे समाज में गहरे तक धंसा है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

अमनदीप इस बयान पर काफ़ी गुस्सा हैं. उन्होंने लिखा है, ''दक्षिण भारत, तरुण विजय को जवाब में अपने यहां दाखिल मत होने दीजिए.''

अजीत के मुताबिक, ''तरुण विजय ने सेल्फ़ गोल कर दिया है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

लोनरेंजर हैंडल से तंज़ करते हुए लिखा गया है, ''मैं नरेंद्र मोदी से आग्रह करती हूं कि सभी दक्षिण भारतीयों को बर्खास्त कर दें और तरुण विजय का समर्थन करें. कैबिनेट में सिर्फ़ गोरे लोगों को रखा जाए.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे