सोशल- 'पाक लादेन को छिपाता है और निर्दोषों को फाँसी देता है'

इमेज कॉपीरइट Twitter

पाकिस्तान में सैन्य अदालत ने भारत के कथित जासूस कुलभूषण सुधीर जाधव को मौत की सज़ा सुनाई है.

पाकिस्तान का दावा है कि कुलभूषण जाधव भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी रॉ के एजेंट हैं, जबकि भारत इससे इनकार करता रहा है.

कुलभूषण जाधव को तीन मार्च, 2016 को बलूचिस्तान में गिरफ़्तार किया गया था. पाकिस्तान में उन पर जासूसी करने का आरोप लगा था.

कुलभूषण को मौत की सज़ा की खबर आने के कुछ देर बाद ही ये भारत और पाकिस्तान दोनों जगह ट्विटर पर टॉप ट्रेंड में शामिल हो गया.

'भारतीय नागरिक को प्रताड़ित कर रहा है पाक'

'कच्ची गोलियां खेलने वालों ने जासूसी कहानी गढ़ी'

पाकिस्तान के नबील चौधरी ने ट्वीट किया, "कुलभूषण जाधव की सज़ा भारत के लिए साफ़ और स्पष्ट संदेश है कि ये 1971 नहीं है."

पाकिस्तान डिफेंस ने ट्वीट किया, "पिछले कुछ वर्षों में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियां ने भारत के कई खुफिया अभियानों का पर्दाफाश किया है. कुलभूषण जाधव इसी ट्रेंड का हिस्सा है."

इमेज कॉपीरइट Twitter

अमना फ़जेल ने ट्वीट किया, "कुलभूषण जाधव को को मौत की सज़ा का फैसला सही है. भारत का पाकिस्तान में रॉ एजेंट भेजना अब रुक जाएगा!"

आयशा अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, "भारतीय उच्चायुक्त ने कुलभूषण की सजा का विरोध किया....अब बताइए कौन आतंकवादियों का समर्थन कर रहा है?"

मैमूना ने कहा, "जो लोग कुलभूषण की सजा का ये कहकर विरोध कर रहे हैं कि इससे दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ेगा, वो गलत हैं."

इमेज कॉपीरइट Others

सुधीर कुमार ने ट्वीट किया, "बेहद शर्मनाक, कुछ ही दिन पहले आपके मंत्री ने कहा था कि कुलभूषण के ख़िलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं."

अंजली शास्त्री ने ट्वीट किया, "उस देश से और उम्मीद मत कीजिए जो बिन लादेन को छिपाता है और निर्दोषों को फांसी देता है."

पवन खेड़ा ने ट्वीट किया, "सरकार ने हमारी देशप्रेमी मीडिया को मोदी-योगी गाने में व्यस्त रखा और किसी का भी ध्यान कुलभूषण के मुकदमे पर नहीं गया."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)