सोशल: 'मैं मुसलमान नहीं फिर अज़ान से क्यों जगूं?'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जाने-माने गायक सोनू निगम ने सोमवार सवेरे अपने ट्वीट से सोशल मीडिया पर बवाल मचा दिया.

उन्होंने लिखा, ''ऊपरवाला सभी को सलामत रखे. मैं मुसलमान नहीं हूं और सवेरे अज़ान की वजह से जागना पड़ता है. भारत में ये जबरन धार्मिकता कब थमेगी.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

सोनू ने आगे लिखा, ''और वैसे जब मोहम्मद (साहब) ने इस्लाम बनाया था तब बिजली नहीं थी...तो फिर मुझे एडिसन के बाद ये शोर क्यों सुनना पड़ रहा है.''

उन्होंने कहा, ''मैं ऐसे किसी मंदिर या गुरुद्वारे में यक़ीन नहीं रखता जो लोगों को जगाने के लिए बिजली (लाउडस्पीकर) का इस्तेमाल करते हैं. जो धर्म में यक़ीन नहीं रखते. फिर क्यों? ईमानदारी से बताइए? सच क्या है?''

चौथे ट्वीट में उन्होंने लिखा, ''गुंडागर्दी है बस...''

इमेज कॉपीरइट Twitter

उनके ट्वीट करते ही सोशल मीडिया पर चर्चा शुरू हो गई. वो टि्वटर पर #SonuNigam ट्रेंड पर करने लगे.

कुछ लोग उनका समर्थन कर रहे हैं और कुछ विरोध.

सय्यद ताहा ने लिखा, ''मज़हब ए जज़्बात चाहे हिंदू का हो या मुसलमान का, उसे गुंडागर्दी कहना सही नहीं है.''

इसके जवाब में सैनिटी स्पीकर हैंडल से लिखा गया है, ''और किसी के कान में मज़हब ए जज़्बात के नाम पर भोंपू बजाना, वो क्या है? आपको इस बात का अहसास है कि बूढ़े, बीमार और बच्चे हैं जो इन सब को नहीं झेल सकते.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

एच के पटेल ने लिखा है, ''ये तो विवादित ट्वीट हो गया...अब फ़तवे भी जारी हो सकते हैं कि सोनू निगम के गाने सुनना हराम है...''

अभय ने लिखा है, ''मैं आपको पूरा समर्थन देता हूं. मैं एक धर्मनिरपेक्ष मुल्क़ में रहता हूं, ऑस्ट्रेलिया में. यहां ये लोग लाउडस्पीकर इस्तेमाल नहीं करते.''

स्वपनिल ने लिखा है, ''सोनू निगम का ये ट्वीट दिनभर ख़बरों में रहेगा. मैं इस चर्चा से बाहर हूं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे