सोशल: 'कश्मीर में फौज से हमदर्दी और तेज बहादुर पर मौन'

  • 20 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Tej Bahadur Yadav FB

फ़ेसबुक पर वीडियो पोस्ट करके ख़राब खाने की शिकायत करने वाले सीमा सुरक्षा बल के जवान तेज बहादुर यादव को नौकरी से निकाल दिए जाने के बाद सोशल मीडिया पर लोग खुलकर अपनी राय रख रहे हैं.

ट्विटर पर #Justice4TejBahadur यानी तेजबहादुर को इंसाफ़ मिले टॉपिक लगातार ट्रेंड कर रहा है.

जवानों को जले परांठे, गृह मंत्री ने मांगी रिपोर्ट

भारतीय जवान के वीडियो

हाई कोर्ट ने बीएसएफ़ जांच मामले में रिपोर्ट मांगी

जवानों ने सोशल मीडिया को क्यों बनाया हथियार?

इमेज कॉपीरइट Tej Bahadur Yadav FB

इस साल की शुरुआत में तेज बहादुर यादव ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में सीमा पर तैनात जवानों को दिए जाने वाले खाने की गुणवत्ता पर सवाल उठाया गया था. उनकी ये पोस्ट वायरल हो गई थी.

उसके बाद तेज बहादुर यादव के खिलाफ बीएसएफ़ (सीमा सुरक्षा बल) का अनुशासन तोड़ने के लिए जांच शुरू की गई थी. बीएसएफ ने जांच के बाद तेज बहादुर यादव को नौकरी से निकालने का फैसला किया है.

इस फ़ैसले के बाद तेज बहादुर की पत्नी शर्मिला यादव ने फ़ेसबुक पर लिखा, "हम दुखी नहीं है बल्कि हमें ख़ुशी इस बात की है कि वो सही सलामत घर आ रहे हैं. हम धन्यवाद करते हैं बीएसएफ़ का जिन्होंने इतनी सहानुभूति से तेज बहादुर का कोर्ट मार्शल किया. वो देश के सच्चे सिपाही हैं जिन्होंने जवानों के लिए कुछ किया. देश को उनको हमेशा याद रखेगा. जय हिंद."

इमेज कॉपीरइट Tej Bahadur Yadav FB

शर्मिला के फ़ेसबुक पेज पर संजय यादव नाम के उनके फ़ॉलोअर लिखते हैं, "बीएसएफ़ अधिकारियों और भारत सरकार का बहुत दुःखद फैसला है जिन्होंने तेज बहादुर जी जैसे ईमानदार, देशभक्त इंसान के प्रति ये फैसला लिया है. हमें गर्व है ऐसे सच्चे वीर पुरुष पर"

@sandeepsingh844 ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, "एक और व्हिसलब्लोअर को सज़ा दी गई और हमारे पीएम कहते हैं कि हर भारतीय वीआईपी है."

@EarthyyMermaid ट्वीट करती हैं, "ओ बहादुर क्यों खोली तूने आवाज बहरी है ये सरकार."

@Rigged_EVM के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, "शहीद दिवस पर बस फूलों की बारिश करो और जवानों को खाना मत दो."

कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल @INCIndia से लिखा, "दुख की बात है तेज बहादुर को इंसाफ नहीं मिला."

@MehekF लिखती हैं, "कश्मीर में सेना के हालात पर तो भक्त ख़ूब रोना रोते हैं और यहां अपने लिए अच्छे खाने की मांग करने वाले सिपाही को हटा दिया जाता है तो सब मौन हैं."

ऐसा नहीं है कि सभी लोग तेज बहादुर के साथ ही हैं. उन्हें ट्विटर पर विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है.

@KVanaik ने लिखा, "मैं तेज बहादुर जी का सपोर्ट तो करता हूं लेकिन उन्हें इस तरह से हमारी फ़ौज की इमेज ख़राब नहीं करनी चाहिए थी."

@iamvshukla ने लिखा, "तेज बहादुर जी थे तो जवान लेकिन उनके फ़ेसबुक पोस्ट देखिए. पक्के राजनेता की तरह."

@Lt_Anaya लिखते हैं, "जो भी तेज बहादुर के लिए न्याय मांग रहे हैं उन्हें पता होना चाहिए कि उन्होंने सैन्य बलों के कोड ऑफ़ कंडक्ट को तोड़ा है. बेवजह सरकार को इसके लिए ज़िम्मेदार ना ठहराएं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)