सोशल: 'आमिर ख़ान को मिली राष्ट्रवाद की ट्रॉफ़ी'

  • 25 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

आमिर ख़ान आम तौर पर पुरस्कार समारोह से दूर रहते हैं, लेकिन इस बार दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड लेने पहुंचे तो चर्चा होना स्वाभाविक है.

सोशल मीडिया पर आमिर ख़ान ट्रेंड कर रहे हैं और वजह है पुरस्कार समारोह में उनका शिरकत करना. समारोह की तस्वीरों में आमिर ख़ान और लता मंगेशकर नज़र आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

और साथ ही नज़र आ रहे है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत. लोग सबसे ज़्यादा उस तस्वीर पर चर्चा कर रहे हैं जिसमें भागवत, आमिर को पुरस्कार सौंप रहे हैं.

राघव ने ट्वीट किया, ''आमिर ख़ान आपने सच में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से अवॉर्ड लिया. यक़ीन नहीं होता.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

तरुण ने लिखा है, ''आमिर ख़ान सबसे बड़े राष्ट्रवादी के हाथों राष्ट्रवाद की ट्रॉफ़ी लेते हुए.''

भारत में हर साल फ़िल्मों से जुड़े कई पुरस्कार दिए जाते हैं, जैसे राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार, फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार, ज़ी सिने अवॉर्ड्स, स्क्रीन अवॉर्ड्स आदि.

लेकिन आमिर ज़्यादातर पुरस्कार समारोहों से दूर ही रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

बिमल ने लिखा है, ''आमिर ख़ान को आरएसएस प्रमुख से मिला पुरस्कार. सेक्युलरिस्ट हैरान होंगे.''

आमिर ने मुंबई में लता मंगेशकर के पिता मास्टर दीनानाथ मंगेशकर की 75वीं बरसी पर एक समारोह में पुरस्कार लिया.

चीन में होगा आमिर का दंगल

आमिर की ही 'पीके' को पछाड़कर नंबर वन बनी 'दंगल'

अंतिम बार दिखे थे ऑस्कर समारोह में

आमिर अंतिम बार किसी फ़िल्म समारोह में 2002 में नज़र आए थे जब उनकी फ़िल्म 'लगान' को सर्वश्रेष्ठ विदेशी फ़िल्मों की श्रेणी में ऑस्कर नामांकन मिला था.

आमिर पुरस्कार समारोहों में क्यों नहीं शामिल होते, इसपर शायद उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की है, मगर उनके इस फ़ैसले की चर्चा समय-समय पर होती रही है.

इमेज कॉपीरइट Twitter/Ram Gopal Varma

कुछ ही दिन पहले फ़िल्म निर्देशक रामगोपाल वर्मा ने उनका उदाहरण देकर फ़िल्म पुरस्कारों की सार्थकता पर सवाल उठाए थे.

रामगोपाल वर्मा ने आमिर ख़ान को देश का महानतम फ़िल्मकार बताते हुए कहा था कि पुरस्कार समारोहों से आमिर की ग़ैर-मौजूदगी दर्शाती है कि इन समारोहों का महत्व क्या है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे