सोशल: 'आईआईटी साइट की हैकिंग संभव तो ईवीएम क्यों नहीं'

  • 26 अप्रैल 2017
ट्वीट इमेज कॉपीरइट Twitter

दिल्ली के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) समेत तीन केंद्रीय विश्वविद्यालयों की वेबसाइट्स को मंगलवार को हैक कर लिया गया.

ख़ुद को 'पीएचसी' बताने वाले इस हैकर समूह ने दावा किया कि उसका संबंध पाकिस्तान से है.

हैक करने के बाद इन सभी वेबसाइट्स पर पाकिस्तान समर्थित टिप्पणियां छाप दी गई थीं. साथ ही भारत सरकार को कश्मीर मसले पर गंभीरता से विचार करने का संदेश भी छापा गया था.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने इस ख़बर की पुष्टि की है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

पीटीआई के मुताबिक़, आईआईटी दिल्ली समेत अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय और आईआईटी वाराणसी की साइट को भी हैक किया गया.

कुछ ख़बरों में दावा किया गया है कि पीएचसी ग्रुप ने पाकिस्तान रेल मंत्रालय की साइट को हैक करने के जवाब में इन भारतीय साइटों को हैक किया.

सोशल मीडिया पर इन साइट्स के हैक होने की ख़बर ने खूब चर्चा बटोरी.

नरेश जैन ने @ncjain50 हैंडल से ट्वीट किया, "क्या हम ऐसे डिजिटल इंडिया का मुकाम हासिल करेंगे? लगातार डेटा, सरकारी व गैर-सरकारी वेबसाइट्स और बैंकों के कागज़ हैक किए जा रहे हैं."

मन शर्मा ने हैंकिग पर मज़ाक करते हुए ट्वीट किया, "इस बहाने इन सरकारी विश्वविद्यालयों की साइट्स को लोग देख तो रहे हैं. वरना कोई देखता भी नहीं है इस साइट्स को. #GudJobPakHackers लेकिन इससे देश को कोई नुकसान नहीं होने वाला."

इमेज कॉपीरइट Twitter

@bhak_sala ट्विटर हैंडल से राजीव राज ने ट्वीट किया, "मुझे तो चिंता यह हो रही है कि सीएम अरविंद केजरीवाल की आर्मी के लोग यह न कहने लगें कि जब आईआईटी दिल्ली की साइट हैक हो सकती है, तो ईवीएम क्यों हैक नहीं की जा सकती."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार