सोशल: नगर निगम की लड़ाई क्यों हारे केजरीवाल?

इमेज कॉपीरइट Twiiter

दिल्ली नगर निगम चुनाव के बाद वोटों की गिनती शुरू होते ही बीजेपी बढ़त लेती दिख रही थी. धीरे-धीरे साफ हो गया कि बीजेपी को बहुमत मिल रहा है और आम आदमी पार्टी की हालत खराब है. इसके साथ ही सोशल मीडिया पर लोगों के रिएक्शन आने भी शुरू हो गए.

'केजरीवाल की लहर, अपने 'आप' को ले डूबी'

दिल्ली: बीजेपी आगे, माकन का इस्तीफ़ा, आप ने ईवीएम को कोसा

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

विधानसभा चुनाव में आप ने 70 में से 67 सीटें जीतकर सबको चौंका दिया था. कुछ सालों बाद ही पार्टी को एमसीडी चुनाव में मिली इतनी करारी हार भी चौंकाने वाली है.

बीबीसी ने 'कहासुनी' के ज़रिए लोगों से पूछा था कि क्या अरविंद केजरीवाल मतदाताओं का मिजाज भांपने में असफल रहे. इस सवाल के अलग-अलग जवाब आए.

सुहैल अंसारी नाम के ट्विटर यूजर ने कहा,''मुझे लगता है कि आप को निगेटिव कैंपेन नहीं करना चाहिए था. अपने किए हुए कामों और नए वादों के साथ जनता के बीच जाना चाहिए था.''

प्रशांत शुक्ला ने कहा,''पिछले चुनाव में लोग बिजली और पानी के आधे दामों के झांसे में आ गए थे. इस बार लोगों ने प्रतिशोध लिया है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

राम कृष्ण सिंह कहते ''करप्शन का मुद्दा केजरीवाल के हाथ से जा चुका है. अब मोदी जी को कोई नया मुद्दा देना होगा तभी कांग्रेस और आप जिंदा बचेंगी.''

एक दूसरे ट्विटर यूजर ने कहा,''अगर आप दिन भर दूसरों को कोसते रहेंगे तो लोग तंग हो जाएंगे. केजरीवाल का आक्रामक रवैया मजाक जैसा बन गया था.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Facebook
इमेज कॉपीरइट Facebook

सैयद का कहना है,'जब सारा फैसला ईवीएम को ही करना है तो काम करो न करो, सेटिंग होनी चाहिए.'

उमेशशंकर को लगता है कि आम आदमी पार्टी ने पहली बार एमसीडी चुनाव लड़ा है और केजरीवाल का प्रदर्शन अच्छा रहा है. कुछ लोगों ने ईवीएम की पारदर्शिता पर भी सवाल खड़े किए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे