सोशल: कश्मीर के लोग क्यों लिख रहे हैं 'आखिरी पोस्ट'?

इमेज कॉपीरइट Abid Bhat

कश्मीर में जारी हिंसा और तनाव के बीच भारत सरकार ने वहां एक महीने के लिए 22 सोशल मीडिया साइट्स और अन्य वेबसाइटों पर बैन लगा दिया है. इनमें फेसबुक, ट्विटर और वॉट्सऐप, यूट्यूब, स्काइप और स्नैपचैट भी शामिल हैं.

कश्मीर: सोशल मीडिया साइटों पर लगी पाबंदी

कश्मीर की ये 'पत्थरबाज़ लड़कियां'

राज्य सरकार का कहना है कि 'सरकार विरोधी तत्व' इन सेवाओं का दुरुपयोग कर रहे हैं. यह ऐलान होते ही कश्मीर के लोग फेसबुक और ट्विटर पर अपनी 'आखिरी पोस्ट' शेयर करने लगे. इनमें से कइयों के संदेश में भावुकता और दुख देखा जा सकता था तो किसी के पोस्ट में नाराज़गी और गुस्सा.

क्या कश्मीर के हिंसक प्रदर्शन बड़े ख़तरे का संकेत हैं?

शौकत फ़हीम ने फेसबुक पर लिखा,''शायद ये मेरी आखिरी पोस्ट होगी इसलिए मुझे दुआओं में याद रखिएगा. इंशाअल्लाह हम फिर मिलेंगे.'' जहांगीर अली ने लिखा,''कश्मीर में सोशल मीडिया पर एक महीने के लिए बैन. टाटा, अगले महीने मिलेंगे. फेसबुक पर बिजनेस करने वालों के प्रति मेरी सहानुभूति. उनका बिजनेस बुरी तरह प्रभावित होगा.''

इमेज कॉपीरइट facebook
इमेज कॉपीरइट facebook

मुहम्मद रफ़ीक ने लिखा,''यह जानकर बहुत दुख हुआ कि कश्मीर में सोशल मीडिया पर रोक लगने जा रही है. मुझे मालूम है कि आपको टैग होना पसंद नहीं लेकिन शायद मैं आखिरी बार टैग कर रहा हूं. मैं आप सब को बहुत याद करूंगा.''

एक दूसरे फेसबुक यूजर ने लिखा,'अगर मेरी किसी पोस्ट ने आप सब को दुख पहुंचाया हो तो मैं माफी चाहूंगा. मैं आप सबको बहुत मिस करूंगा.''

इमेज कॉपीरइट facebook

एक ट्विटर हैंडल से लिखा गया,''क्या विरोधाभास है! प्रशासन सोशल मीडिया पर बैन लगाने का ऐलान सोशल मीडिया पर कर रहा है.'' अली ने मज़ाकिया लहजे में लिखा,'भारत ने कश्मीर में सोशल मीडिया पर बैन लगा दिया है. अब कबूतरों का इस्तेमाल करने का वक्त आ गया है.''

इमेज कॉपीरइट facebook
इमेज कॉपीरइट Twitter

पिछले दिनों कुछ वीडियो सामने आए थे जिसमें भारतीय सुरक्षाबलों और कश्मीरियों के बीच झड़प और तनाव साफ देखा जा सकता था. सुरक्षाबलों के साथ हुई हालिया हिंसा में 9 लोगों की मौत हो गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)