सोशल: 'दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ा...और चाहिए अच्छे दिन'

  • 9 मई 2017
मेट्रो इमेज कॉपीरइट AFP

दिल्ली मेट्रो में अब न्यूनतम यात्री किराया 10 और अधिकतम किराया 50 रुपये होगा.

7 साल बाद दिल्ली मेट्रो ने 10 मई से यात्री किराया बढ़ाने का फ़ैसला किया है. ये किराया दो चरणों में बढ़ाया जाएगा.

पहले चरण का किराया 10 मई और दूसरे चरण का किराया एक अक्टूबर से लागू होगा.

10 मई से सितंबर तक अधिकतम किराया 50 और 1 अक्टूबर से अधिकतम किराया 60 रुपये होगा. मेट्रो में हर रोज़ लाखों यात्री सफर करते हैं.

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के मुताबिक, स्टाफ सैलरी, रिपेयरिंग के खर्चा और बेहतर सुविधाओं के लिए किराया बढ़ोतरी ज़रूरी है.

हालांकि एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन के किराये में कोई इजाफा नहीं हुआ है.

क्या बोले सोशल मीडिया यूजर्स?

पंकज ने फेसबुक पर लिखा, ''दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ जाएगा. न्यूनतम 8 की जगह 10 और अधिकतम 50 हो जाएगा. सब कपिल पुराण में उलझो, वे जनता का काम लगा देंगे.''

आलोक कुमार लिखते हैं, ''दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ा दिया गया. और ले लो विकास.''

प्रभात मिश्रा ने शिकायती लहज़े में लिखा, ''दिल्ली में मेट्रो का किराया मंहगा हुआ. आखिर पिछले 3 सालों में सस्ता क्या हुआ??''

राजू साजवान ने लिखा, 'दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ने का मतलब है करीब 1200 रुपये महीने का ख़र्च बढ़ना.'

इमेज कॉपीरइट Twitter

प्रिया सिंह ने लिखा, ''दिल्ली मेट्रो ने किराया बढ़ाया. बताइए और चाहिए अच्छे दिन?''

राजनीतिक दलों के समर्थक भी इस पर बंट गए हैं. अंजली महापात्रों ने लिखा, '2 करोड़ के भ्रष्टाचार के मामले से ध्यान हटाने के लिए अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़वा दिया.'

इमेज कॉपीरइट Twitter

हालांकि आम आदमी पार्टी ने कहा है कि उन्होंने मेट्रो किराए में बढ़ोतरी का विरोध किया था, लेकिन केंद्र सरकार ने उनकी बात नहीं सुनी. अरविंद केजरीवाल के मीडिया सलाहकार नागेंद्र शर्मा ने इस पर ट्वीट किया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

देव कार्की लिखते हैं, 'दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ रहा है. सीटें भी बढ़ेंगी क्या? बैठने के लिए सीट नहीं मिलती.'

दिल्ली मेट्रो हमेशा चमचमाती कैसे रहती है?

दिल्ली मेट्रो के यात्रीगण कृपया ध्यान दें...

दिल्ली मेट्रो की चमक

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार