पाकिस्तान में सोशल पर- 'आईसीजे का मतलब इंडियन कोर्ट ऑफ़ जस्टिस'

इमेज कॉपीरइट AFP

कुलभूषण जाधव की सज़ा-ए- मौत पर अंतरराष्ट्रीय अदालत की रोक के बाद पाकिस्तान ने कहा है कि इससे अंतिम फ़ैसले पर कोई असर नहीं पड़ता और पाकिस्तान अदालत में पुख़्ता तरीके से अपना पक्ष रखेगा.

पाकिस्तान के एटॉर्नी जनरल के दफ़्तर ने बयान जारी किया कर कहा कि ये अंतरिम फ़ैसला है.

पाकिस्तान ने ये भी कहा- ''पाकिस्तान ने अदालत का सम्मान करते हुए सुनवाई में हिस्सा लिया और न्यायिक प्रक्रिया को चुनौती ग़ैरहाज़िर होकर नहीं हाज़िर होकर दी जा सकती है.''

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption कुलभूषण के पक्ष में कई भारतीयों ने पाकिस्तानी ट्विटर यूज़र को जवाब देने शुरु कर दिए

इस बयान में ये भी कहा गया, ''पाकिस्तान सभी मसलों को बातचीत से सुलझाने का मत रखता है और पाकिस्तान को विश्वास है कि कमांडर जाधव जैसे एजेंटों के ज़रिए चलाई जाने वाली विनाशक गतिविधियों को भारत छिपा नहीं पाएगा.''

इस फ़ैसले के बाद पाकिस्तान में ट्विटर पर लोग अपना गुस्सा और नाराज़गी ज़ाहिर कर रहे हैं.

जाधव जैसे मामलों में ICJ के फ़ैसलों की अनदेखी होती रही है

कुलभूषण जाधव- ICJ ने भारत की दलील क्यों मानी? अब आगे क्या?

जैसे ही अदालत ने फ़ैसला सुनाया पाकिस्तान में ट्विटर पर #KalbhushanJhadav, #PakistanisRejectICJ, #Vienna Convention और #Jadhav जैसे हैशटैग की बाढ़ आ गई.

नावेद अख़्तर ने ट्विटर पर इस फ़ैसले को पक्षपातपूर्ण बताया. उन्होंने लिखा,'' अंतरराष्ट्रीय अदालत का #KalbhushanJhadav पर फ़ैसला पक्षपातपूर्ण है. फ़ैसला खारिज.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

एक अन्य व्यक्ति अहमद खान लिखते हैं, "आईसीजे का मतलब है इंडियन कोर्ट ऑफ जस्टिस और हम पाकिस्तानी इसे ख़ारिज करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

कुछ लोगों ने मांग की है कि आईसीजे के फ़ैसले के बावजूद इस भारतीय चरमपंथी को फांसी देनी चाहिए.

सैय्यद सफ़दर बुखारी ने ट्वीट किया, " हम इस आतंकवादी को फांसी देंगे चाहे इस जाली अदालत का फ़ैसला जो भी हो".

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

सबीना सिद्दीक़ी ने सवाल उठाते हुए ट्वीट किया , ''आईसीजे पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर हस्तक्षेप कर रहा है. ''

वहीं उरूज़ ए डोसल ने लिखा,"जाधव ने पहले ही कुबूल किया है कि वो आंतकवाद में शामिल रहा है, तो पाकिस्तान उसे फांसी देने में देर क्यों कर रहा है?"

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्विटर पर भारत और पाकिस्तान के ट्विटर यूज़र्स के बीच ट्विटर जंग छिड़ी थी.

उरूज़ के ट्वीट पर एक यूज़र भारतीय इसरायली ने लिखा, ''अगर तीन घंटे के लिए बिलावल की कस्टडी दो तो मैं उनसे मनवा लूंगा कि वो एक एलियन हैं.''

हरीश साल्वे- वो वकील जिसने कुलभूषण का मृत्युदंड रुकवाया

इस बीच, कुछ लोगों ने ट्विटर पर कश्मीर के हालात का मुद्दा छेड़ दिया है.

ख़ुर्रम ट्वीट करते हैं, 'उस समय आईसीजे कहाँ था जब भारत ने कश्मीर के निर्दोष लोगों की हत्या की. वो कोई एक्शन क्यों नहीं लेते'.

फ़रहान विर्क ने ट्वीट किया, "ये धोखा है. हमें विदेशी अदालतों पर कभी भरोसा नहीं करना चाहिए था."

( बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे