महिलाओं पर टिप्पणी से फँसे अभिनेता, सोशल मीडिया पर आलोचना

इमेज कॉपीरइट Chalapathi Rao, Facebook

महिलाओं के बारे में अपने एक बयान के कारण तेलुगु सिनेमा के अभिनेता चलपति राव विवादों में फंस गए हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार पुलिस का कहना है कि महिलाओं के बारे में अपमानजनक बयान देने के लिए उनके ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया है.

पुलिस के अऩुसार एक महिला कार्यकर्ता की शिकायत पर तेलंगाना के सरूरनगर पुलिस थाने में उनके ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया है.

चलपति तेलुगु फ़िल्म 'रारान्दोई वेदुका चुड्डाम' से जुड़े एक समारोह में शिरकत कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने महिलाओं पर अश्लील टिप्पणी करने और सम्मान को ठेस पहुंचाने का आरोप है.

हालांकि इसके बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो के ज़रिए चलपति ने माफ़ी मांग ली, लेकिन उनके बयान से उठा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. तेलुगु सिने जगत के ही कई लोगों ने ही इस बयान के लिए उनकी निंदा की है.

मंज़ूर सैय्यद ने लिखा, "चलपति राव ने सिनेमा में ही नहीं असल ज़िंदगी में भी अपने विलेन वाले रूप को साबित कर दिया है कि महिलाएं केवल बिस्तर पर ही अच्छी लगती हैं."

जिस फ़िल्म के समारोह में कुलपति ने ये विवादित बयान दिया उसमें काम करने वाली अभिनेत्री रकुल प्रीत ने अपने फ़ेसबुक पन्ने पर एक बयान जारी किया है.

उन्होंने कहा है, "वो तेलुगु फ़िल्म जगत के वरिष्ठ अभिनेता है और उन्हें अपनी उम्र का ख़्याल कर उचीत बयान देना चाहिए. ऐसे बयानों से जो लोग उनके नज़दीक हैं वो उनके बारे में ग़लत राय बनाएंगे. फ़िल्म जगत में आए नए कलाकार ऐसी घटनाओं के बारे में जानकर अच्छा अनुभव नहीं करेंगे."

अभिनेता नागार्जुन ने अपने फ़ेसबुक पोस्ट लिखा, "मैं महिलाओं का सम्मान करता हूं और चलपति ने जिस प्रकार के अपमानजनक शब्द कहे हैं मैं उनसे इत्तेफ़ाक नहीं रखता. दुनिया में राक्षस नहीं हैं."

अभिनेता राम पोथिनेनी ने लिखा, "हमें अपसे माफी की उम्मीद नहीं... लेकिन हमें दुख है कि आपने अपनी ज़िदंगी का एक बड़ा हिस्सा महिलाओं का मूल्य बिना जाने गुज़ार दिया. आपसे युवा जेनरेशन की सोच इससे परे हैं और हमें इस पर गर्व है."

पद्मश्री सुन्कारा ने लिखा, "माफी से हम महिलाओं को बेहतर नहीं लगेगा. आपने जो कहा वो हमेरा मन में कांटे की तरह चुभता रहेगा. "

सिद्धार्थ कुमार सिंह ने लिखा, "जो लोग उनकी टिप्पणी करने के वक्त हंस रहे थे, वो अब उनके ख़िलाफ़ हो गए हैं. ये उन्हीं के बारे में बताता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे