सोशल: बीफ पर बोलकर फंसे 'मेक माय ट्रिप' के को फ़ाउंडर केयूर जोशी

बीफ, मेक माय ट्रिप, बीजेपी इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत में बीफ़ का मुद्दा गर्म है और हर दिन इससे जुड़ा कोई न कोई विवाद सामने आ रहा है. ताज़ा मामला 'मेक माय ट्रिप' के सह संस्थापक केयूर जोशी का है.

'हिंदू हूँ और 30 साल से बीफ़ के कारोबार में हूँ'

विधायक ने 19 साल बाद फिर बीफ़ क्यों खाया?

बीफ़ और इसके व्यापार पर लगी बंदिशों के बारे में लोग अलग-अलग राय दे रहे हैं. 'मेक माय ट्रिप' के सीईओ केयूर जोशी ने भी अपनी राय रखी.

उन्होंने ट्वीट किया,''मैं नरेंद्र मोदी का बड़ा समर्थक हूं और पूरी ज़िंदगी शाकाहारी रहा हूं लेकिन लोगों के खाने के अधिकार के लिए अब मैं बीफ़ खाऊंगा.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

उन्होंने आगे लिखा,''अगर हिंदुत्व लोगों से खाने का अधिकार छीन लेता है तो मैं हिंदू नहीं रहूंगा. बीजेपी और नरेंद्र मोदी यह तय नहीं कर सकते कि लोग क्या खाएंगे.'' उन्होंने ट्वीट किया ही था इस पर गर्मागर्म बहस होने लगी. लोगों ने उनकी आलोचना शुरू कर दी और उन्हें बुरी तरह ट्रोल भी किया जाने लगा.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इतना ही नहीं लोग 'मेक माय ट्रिप' का ऐप अनइंस्टॉल करने की धमकी भी देने लगे और #BoycottMakeMyTrip ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा. @SirNathulal नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा,''मैं मेक माय ट्रिप से सफर करने के बजाय हिंदू बने रहना पसंद करूंगा.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

मेंटेलेक्चुअल ने एक स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा,''केयूर, शायद यह बीफ़ खाने की कीमत थी. मजे करिए.''

बृजेश कुमार यादव ने लिखा,''आपको जो खाना है खाइए, जो धर्म चाहें उसे मानिए. मैं अब पूरी ज़िंदगी आपका ऐप यूज नहीं करूंगा.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

मामला बढ़ते देख 'मेक माय ट्रिप' ने एक आधिकारिक बयान जारी करते हुए कहा,''ये केयूर जोशी के निजी विचार हैं, मेक माय ट्रिप के नहीं. वह मौजूदा वक्त में कंपनी के कर्मचारी नहीं हैं.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

इसके बाद केयूर जोशी ने खुद भी माफी मांगी. उन्होंने ट्वीट किया,''बीफ के बारे में ये मेरे व्यक्तिगत विचार हैं. मेरे इरादा किसी को ठेस पहुंचाना नहीं था. मैं इसके लिए तहेदिल से माफी मांगता हूं और अपने शब्द वापस लेता हूं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे