सोशल: 'अमेज़न, ऐसी क्रिएटिविटी हमें नहीं चाहिए'

ऐशट्रे इमेज कॉपीरइट Amazon India

अमेज़न इंडिया ने अपनी साइट पर एक प्रोडक्ट रिलीज़ किया है, जिसे लेकर महिलाओं में काफ़ी गुस्सा है और इस गुस्से को सोशल मीडिया पर भी देखा जा रहा है.

प्रोडक्ट का नाम है 'ट्राईपोलर क्रिएटिव टेबलटॉप ऐश-ट्रे'. कंपनी के मुताबिक़, यह एक डेकोरेशन आइटम है यानी इसे सजावट के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

ऐश-ट्रे में एक नग्न महिला को टब के ऊपर लेटा हुआ दिखाया गया है.

इमेज कॉपीरइट Amazon Page

सोशल मीडिया पर कुछ महिलाओं ने लिखा है कि अमेज़न ने अपने पुराने यूज़र्स को इस प्रोडक्ट पर 30 प्रतिशत छूट की पेशकश की थी, जिसके बाद महिलाओं की इसे लेकर प्रतिक्रिया आनी शुरू हुई.

अमेज़न के पेज पर जाकर कई महिलाओं ने इस उत्पाद के रिव्यू लिखे हैं. इनमें ज्यादातर रिव्यू नाराज़गी भरे हैं.

महिलाओं का कहना है कि अमेज़न का ऐसे उत्पाद बेचना घिनौना है और इससे समाज में औरत जाति से नफ़रत करने वालों को रोमांच मिलेगा.

अमेज़न यूज़र सोहन लाल ने लिखा है कि अमेज़न को ऐसी क्रिएटिविटी दिखाते वक़्त शर्म नहीं आई.

कई महिलाओं ने अमेज़न से इस उत्पाद को बैन करने की भी मांग की है.

इमेज कॉपीरइट FB

फ़ेसबुक पर रीवा सिंह ने अमेज़न के नाम एक 'खुला खत' लिखा है. रीवा उसमें लिखती हैं, "डियर अमेज़न, मुझे उम्मीद है कि आपकी टीम इस उत्पाद को एक मॉडल के तौर और आपके वरिष्ठ अफ़सर इसे अपनी साइट पर उतारते वक़्त होश में रहे होंगे. लेकिन आपकी रचनात्मकता ने हमारे पास कोई विकल्प नहीं छोड़ा है."

'रॉड, तेज़ाब के बाद अब सिगरेट'

फ़ेसबुक यूज़र शिल्पी ने लिखा है, "लो भई! अब औरत के गुप्तांग में सिगरेट भी बुझाई जा सकती है. अभी तक रॉड, तेज़ाब, मोमबत्ती और न जाने क्या-क्या डाला गया. लेकिन यह नई सुविधा उपलब्ध करवाई है अमेज़न ने."

फ़ेसबुक यूज़र प्रीति कुसुम के मुताबिक़ अमेज़न ने इस उत्पाद को अपने 'क्रिएटिव' सेक्शन में भी जगह दी है. उन्होंने अपना गुस्सा ज़ाहिर करते हुए फ़ेसबुक पर लिखा, "ये क्रिएटिविटी है. #Amazon की साइट पर बिक रहा यह ऐश-ट्रे, इस देश की बलात्कारी मानसिकता का जीता जागता उदाहरण है."

इमेज कॉपीरइट Amazon Page

'महिलाओं को इसकी शिकायत करनी चाहिए'

केंद्र सरकार में नौकरी करने वालीं गीता यतार्थ इस ऐश-ट्रे के ख़िलाफ़ लोगों को अपने रिव्यू ऑनलाइन शेयर करने का आह्वान कर रही हैं.

उन्होंने अपनी फ़ेसबुक वॉल पर लिखा, "जिस देश के मर्दों की मानसिकता ऐसी है कि हर रोज़, हर घंटे बलात्कार होते है. छोटी नन्ही बच्चियों से लेकर बूढी औरतों तक के बलात्कार होते है. उस देश में इस तरह का बाज़ारवाद फल-फूल रहा है. यह शर्मनाक है. इसकी शिकायत सभी को मिलकर करनी चाहिए."

रिव्यू में आलोचना किए जाने के बावजूद अमेज़न ने अभी तक इस पर स्पष्टीकरण नहीं दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार