'महाराष्ट्र में बीजेपी यमराज, मध्य प्रदेश में जनरल डायर'

  • 7 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

मध्यप्रदेश के मंदसौर में पुलिस फ़ायरिंग में कम से कम 5 किसानों समेत 6 लोगों की मौत हो गई है और इसके बाद सोशल मीडिया पर विपक्षी नेताओं और आम लोगों का आक्रोश दिख रहा है.

सरकार ने मंदसौर, रतलाम और उज्जैन में इंटरनेट सेवा बंद कर दी है. लेकिन आंदोलनकारियों के सोशल मीडिया के ज़रिये लामबंद होने की ख़बरें भी आ रही हैं.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मामले को संभालने की कोशिश करते हुए किसानों की सभी 'वाजिब' मांगे मानने का ऐलान किया है. उन्होंने मृतकों के परिजनों को पहले 10 लाख रुपये के मुआवज़े का ऐलान किया था, बाद में इसे बढ़ाकर एक करोड़ रुपये कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter/@ChouhanShivraj

पढ़ें: किसान आंदोलन हिंसक होने के बाद पुलिस फ़ायरिंग में तीन किसानों की मौत

लेकिन विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने इस पूरे मामले में आक्रामक रुख़ अपनाते हुए बीजेपी सरकार पर तीखे हमले किए हैं.

कांग्रेस के शहज़ाद पूनावाला ने लिखा, 'महाराष्ट्र में बीजेपी किसानों के लिए यमराज बन गई है, क्योंकि वहां वे ख़ुदकुशी कर रहे हैं और मध्य प्रदेश में प्रदर्शनकारी किसानों को जनरल डायर की तरह मार रही है.'

इमेज कॉपीरइट Twitter/@Shehzad_Ind

आम आदमी पार्टी के नेता और कवि कुमार विश्वास ने कविता की दो पंक्तियों के ज़रिये बीजेपी सरकार को 'हत्यारा' कहा. उन्होंने लिखा, 'जो धरापुत्र का वध कर दे,वह राजपुरुष नाकारा है, जिस पर किसान का रक्त गिरे उस का शासक हत्यारा है.'

पढ़ें: नज़रिया: क्यों फूटा महाराष्ट्र में किसानों का गुस्सा?

इमेज कॉपीरइट Twitter/@DrKumarVishwas

स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव ने लिखा, 'मंदसौर में परेशान किसानों पर फायरिंग मध्य प्रदेश सरकार का किसानों के लिए निष्ठुर रवैया दिखाती है. किसान आज देश में सबसे ज़्यादा हाशिये पर हैं.'

रिट्वीट करते हुए वरिष्ठ वकील और स्वराज अभियान के नेता प्रशांत भूषण ने इस सरकार को 'अब तक की सबसे अलोकतांत्रिक और ग़रीब विरोधी सरकार' बताया.

इमेज कॉपीरइट Twitter/@pbbhushan1

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने इस मामले पर कहा है कि फ़ायरिंग पुलिस की ओर से नही की गई है. इस पर पुरुषोत्तम तिबरेवाल लिखते हैं, 'अगर पुलिस की मंदसौर घटना में कोई भूमिका नहीं थी तो सरकार 10 लाख का मुआवज़ा क्यों दे रही है? पीड़ितों को शांत करने के लिए?'

इमेज कॉपीरइट Twitter/@pmtibrewala

समर अनार्य लिखते हैं, 'साल 2014 के बाद से जिन प्रदेश सरकारों ने आम लोगों पर गोलियां चलाने के आदेश दिए हैं, वे हैं: गुजरात, हरियाणा, झारखंड, जम्मू-कश्मीर और मध्य प्रदेश. ये सभी बीजेपी शासित प्रदेश हैं. #सबकासाथसबकोगोली?'

इमेज कॉपीरइट Twitter/@Samar_Anarya

किन मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं किसान?

किसान 20 सूत्रीय मांगों को लेकर एक जून से हड़ताल कर रहे हैं. उनकी मांग है कि

  • स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाए.
  • किसानों का कर्ज माफ़ किया जाए.
  • किसानों को उचित समर्थन मूल्य दिया जाए.
  • मंडी का रेट निर्धारण हो.
  • किसानों को पेंशन दी जाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे