सोशल: 'शिवराज के इस्तीफ़े के लिए शिवराज का अनशन'

मंदसौर इमेज कॉपीरइट EPA

मध्य प्रदेश में किसानों के प्रदर्शन और उन पर गोली चलाए जाने के दो दिन बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कहा है कि उन्हें किसानों की चिंता है.

सीएम चौहान ने कहा, "जब-जब किसान पर संकट आया है, मैं सीएम हाउस में नहीं बैठा. आइए, दशहरा मैदान पर चर्चा करें और शांतिपूर्ण समाधान खोजें."

शुक्रवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि वो किसानों की सभी समस्याओं के समाधान के लिए प्रतिबद्ध हैं और 'शनिवार से अनिश्चितकालीन अनशन करेंगे.'

उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, "जब तक समाधान नहीं होगा, शांति नहीं होगी, अनशन जारी रहेगा."

सवाल

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्विटर पर #शिवराज_का_शवराज और दशरहा मैदान ट्रेंड कर रहा है और लोग इस पर बातें कर रहे हैं. तन्मय पूछते हैं, "इससे क्या होगा?"

मंगलेश पाटीदार ने लिखा, "2018 शिवराज का आख़िरी साल है. देवास ज़िले से कमल नहीं खिलेगा."

मंदसौर: किसान आंदोलन में हिंसा, 6 की मौत

किसानों के ग़ुस्से को हथियार बना पाएगी कांग्रेस?

'नौटंकी'

इमेज कॉपीरइट Twitter

कांग्रेस के नेता दिग्विजय़ सिंह ने लिखा, "उपवास की बजाय पुलिस को नियंत्रित करें किसानों पर लगाए गए झूठे मुक़दमे वापस लें और किसानों की मांगें मंज़ूर करें. नौटंकी करना बंद करें."

श्रीनिवास अय्यर ने लिखा, "अगर वो वाक़ई उपवास कर रहे हैं तो निर्जला उपवास करें ताकि मृत किसानों की आत्मा को शांति मिले."

आरएसएस के गढ़ मंदसौर में किसान उग्र क्यों?

किसानों पर मोदीजी का वो भूला बिसरा ट्वीट

इमेज कॉपीरइट Twitter

फ़ेबिन ऑग्सिटीन ने तंज़ कसा, "शिवराज सिंह अनशन पर बैठ रहे हैं, शिवराज सिंह का इस्तीफ़ा मांगने के लिए."

नवीन कृष्णवंशी ने लिखा, "उपवास की नौटंकी न करें.... किसान बेचारा हमेशा से उपवास ही कर रहा है. स्वामीनाथन आयोग की सिफ़ारिश लागू करने की कृपा करें."

पापा का नालायक नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा "याद है जब केजरीवाल मुख्यमंत्री थे और वो अनशन पर बैठे थे तो उसे नौटंकी करार दिया गया था और अयोग्य कहा गया था. मुझे यक़ीन है शिवराज यहां देश के प्रति अपना प्यार ही साबित कर रहे होंगे."

व्यंग्य--पीएम के बताए योगासन, आज़माएँ नाराज़ किसान

पैदावार बढ़ने से भी परेशान हैं किसान

इमेज कॉपीरइट Twitter

ज़ुल्फीकार शेख ने लिखा, "कल से शुरू होगा शिवराज मामू का नया ड्रामा, उपवास."

अनिल श्रीवास्तव ने लिखा, "मुख्यमंत्री उपवास पर बैठ रहे हैं, राजपाट ले लो भाई, इनके बस का नहीं राजधर्म."

मृत्युंजय कुमार ने लिखा, "लग रहा है कि शिवराज की समझदारी ख़त्म हो गई है और एक प्रशासक के तौर पर इस तरह की हिंसा के बारे में वो नहीं जान पाए, ये उनकी नाकामी है."

कार्टून: किसान की फसल और जान की कीमत

'सरकारी कर्मी को कंडोम भत्ता, किसान को लागत भी नहीं'

'नाटक'

इमेज कॉपीरइट Twitter

जे बी शर्मा ने लिखा, "अनिश्चितकालीन उपवास एक नाटक है अपनी कुर्सी बचाने के लिए."

सुल्तानपुर शाक्य ने लिखा, "उपवास करो, मां नर्मदा का आशीर्वाद मांगो, उज्जैन भी घूम आओ.... शायद कुछ सलाह मिल जाए."

पुरानीबस्ती नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "शिवराज सिंह मध्य प्रदेश में शांति के लिए उपवास पर बैठ रहे हैं. सर मोदी जी उन्हें बता दो वहां भाजपा की सरकार है और वो वहां के मुख्यमंत्री हैं."

सोशल मीडिया पर कईयों ने मध्य प्रदेश में हिंसा के लिए कांग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

हर्षल गालर ने लिखा, "शिवराज असल हीरो है, कांग्रेस को मत आगे आने दो."

आफरीन नाज़ ने लिखा, "शिवराज सिंह अगर कांग्रेस के गुंडों के खिलाफ कुछ नहीं कर सके तो उन्हें इस्तीफ़ा दे देना चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे