सोशल: 'एक बार फिर महात्मा गांधी की हत्या हुई है'

  • 10 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने महात्मा गांधी को 'चतुर बनिया' कहा है. उनका यह बयान जैसे ही मीडिया में आया, इंटरनेट पर हंगामा होने लगा. ट्विटर पर #MahatmaGandhi ट्रेंड कर रहा है और लोग तरह-तरह से अपनी राय ज़ाहिर कर रहे हैं.

'चतुर बनिया था, कांग्रेस की कमज़ोरी जानता था'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के रायपुर में एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा था, "गांधी चतुर बनिया था. गांधी को मालूम था कि कांग्रेस का आगे क्या हश्र होने वाला है, इसीलिए उन्होंने आज़ादी के बाद तुरंत कहा था कि कांग्रेस को भंग कर देना चाहिए.''

उन्होंने कहा, ''महात्मा गांधी ने नहीं किया, लेकिन अब कुछ लोग यही काम कर रहे हैं. महात्मा गांधी ने ये इसलिए कहा था क्योंकि कांग्रेस की कोई विचारधारा ही नहीं थी, ये सिद्धांतों के आधार पर बनी पार्टी ही नहीं थी."

राहुल गांधी ने महात्मा गांधी का एक कथन साझा किया. इसमें कहा गया है, ''मैं जब भी निराश होता हूं, मैं याद करता हूं इतिहास में हमेशा सच और प्यार की जीत हुई है. अत्याचारी और हत्यारे हुए और कुछ वक़्त के लिए वो अजय भी जान पड़े, लेकिन अंत में उनका ख़ात्मा हो ही गया...ये बात हमेशा याद रखिए.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

शाह की इस टिप्पणी पर कांग्रेस नेताओं समेत कई लोगों ने कड़ी आपत्ति ज़ाहिर की है.

कांग्रेस ने भी पलटवार करते हुए ट्वीट किया, ''बीजेपी और आरएसएस का सच जानिए. जब कांग्रेस के नेता आज़ादी के लिए लड़ रहे थे तब आरएसएस ब्रिटिश राज का समर्थन कर रहा था.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

अतुल ने लिखा, ''यह दुखद है कि महात्मा गांधी का अपमान करना फ़ैशन बन गया है.''

समीर रॉय लिखते हैं, ''एक बार फिर महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई है.''

ललित अस्थाना कहते हैं, ''महात्मा गांधी राष्ट्रपिता हैं. उनके लिए किसी भी तरह का अपमानजनक शब्द इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. ख़ासकर नेताओं द्वारा.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

बीबीसी हिंदी ने 'कहासुनी' में लोगों से यही सवाल पूछा था.

मंगेश तिवारी ने कहा, ''चतुर बनिया होना कोई बुराई नहीं है. बुराई तो है धूर्त होना, मौकापरस्त होना, सत्ता कुर्सी के लिए अपने मुद्दों से समझौता करना, अपने चुनावी वादों और बातों से पलटना.''

इमेज कॉपीरइट Facebook

इंस्टाग्राम पर एक यूज़र ने कहा, ''इसमें कुछ ग़लत तो नहीं है.'' एक अन्य यूज़र ने कहा, ''महात्मा गांधी को ग़लत कहने वाला हरेक इंसान ग़लत है क्योंकि वो ख़राबी उसके अंदर है, उनके अंदर नहीं.''

इमेज कॉपीरइट Instagram

@Yourtypo नाम के ट्विटर हैंडल से हल्के-फुल्के अंदाज़ में ट्वीट किया गया, ''अमित शाह ही चतुर हैं, चतुर ही अमित शाह है. महात्मा गांधी कोई है ही नहीं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे