सोशल- 'ट्रंप-मोदी मुलाकात: राष्ट्रवाद की लहर, आतंकवाद पर कहर'

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की व्हाइट हाउस में पहली मुलाकात हो गई है.

विदेशी नेताओं से पिछली मुलाकातों की ही तरह पीएम मोदी ट्रंप को गले लगाना नहीं भूले.

हालांकि ट्रंप शायद गले लगने के लिए पहले से तैयार नहीं थे, तभी मोदी के गले लगने से ठीक पहले वो एक सेकेंड के लिए झिझके से नज़र आए.

दोनों दिग्गजों के गले लगने की सोशल मीडिया पर चर्चा शुरू हो गई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पैरोडी अकाउंट @The_Trump_Train ने ट्वीट किया, ''पीएम मोदी ने अपना बयान पढ़ने से पहले ही ट्रंप को गले लगा लिया. वाह री कैमेस्ट्री.''

देवकी नंदन कहते हैं, ''इस तरह गले लगना अजीब था. मोदी जी को ऐसा करना बंद करना चाहिए.''

आशुतोष लिखते हैं, ''मोदी-ट्रंप की मुलाकात के ज्यादा मायने निकालना ग़ालिब के दिल बहलाने वाले ख़्याल से ज़्यादा कुछ नहीं. पाकिस्तान को अमेरिकी मदद मिलती ही रहेगी.''

'अब जकड़ने लगे हैं मोदी'

पीएम मोदी और ट्रंप की इस मुलाकात की एक ऐसी भी तस्वीर है, जिसमें मोदी ट्रंप का हाथ पकड़े हुए नज़र आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मोदी और ट्रंप व्हाइट हाउस में हाथ मिलाते हुए

इस तस्वीर को शेयर करते हुए अभिषेक कुमार लिखते हैं, ''पहले पीएम मोदी गले पड़ते थे, अब हाथ जकड़ने लगे हैं.''

कुछ वक्त पहले जब ट्रंप और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के हाथ मिलाने की तस्वीर काफी वायरल हुई थी.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ट्रंप और मैक्रों हाथ मिलाते हुए

कृष्ण कुमार सिंह ने लिखा, ''सुखद. मोदी जी की माया से ट्रंप भी डूबे नज़र आए.''

पत्रकार आदित्य राज कौल लिखते हैं, ''मोदी और ट्रंप व्हाइट हाउस में कसकर गले लगे. क्या इसे इस्लामिक आतंक के खिलाफ़ जादू की झप्पी माना जाए?''

सारांश पांडे मोदी ट्रंप मुलाकात पर लिखते हैं, ''राष्ट्रवाद की लहर, आतंकवाद पर कहर.''

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मोदी और ट्रंप

ट्रंप से मुलाकात: क्या बोले मोदी?

  • हमने भारत और अमरीका के संबंधों के हर आयाम पर विस्तार से चर्चा की है.
  • हमारी बातचीत हर प्रकार से अत्यंत महत्वपूर्ण रही है क्योंकि ये परस्पर विश्वास पर आधारित थी, ये हमारे मूल्यों, प्राथमिकताएं, चिंताएं और रुचियों की समानता भी थी.
  • भारत के सामाजिक आर्थिक बदलाव के लिए हमारे मुख्य कार्यक्रमों में हम अमरीका को प्रमुख पार्टनर मानते हैं.
  • मुझे विश्वास है कि मेरा न्यू इंडिया का विज़न और राष्ट्रपति ट्रंप के मेक अमरीका ग्रेट अमरीका का विज़न हमारे सहयोग के नया आयाम पैदा करेगी.
  • आंतकवाद से लड़ना और आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करना हमारी सहभागिता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होगा.
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मोदी और ट्रंप

मोदी से मुलाकात: क्या बोले ट्रंप?

  • मैंने हमेशा कहा है कि भारत देश और भारतीयों के लिए, उनकी संस्कृति, धरोहर और विरासत के लिए मेरे मन में आदर सम्मान है.
  • इस साल भारत अपनी आज़ादी की 70वीं सालगिरह मनाने वाला है. इस मौके पर अमरीका की ओर से मैं भारतीय लोगों को बधाई देना चाहता हूं.
  • ज्यादातर लोगों के ये पता नहीं है कि भारत और अमरीका का संविधान तीन सुंदर शब्दों से शुरू होता है और ये शब्द हैं....वी द पीपल. प्रधानमंत्री मोदी और मैं इन शब्दों का महत्व बहुत अच्छी तरह से जानते हैं.
  • भारत और अमरीका दोनों ही देश चरमपंथियों और चरमपंथी विचारधारा से लड़ते रहे हैं. हम उग्र इस्लामी चरमपंथ को नष्ट कर देंगे.

ट्रंप-मोदी के बयान की

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)