सोशल: किसकी दहशत में जी रहे हैं भारतीय मुसलमान?

Muslim इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीते कुछ समय में भारत में कई ऐसी वारदातें हुई हैं जिसमें भीड़ ने क़ानून अपने हाथों में ले लिया और इसका अंजाम किसी की मौत बनकर सामने आया.

चाहें वो दादरी के अख़लाक हों या फिर मेवात के पहलू खान.

'जो हमारे साथ हुआ वो किसी के साथ ना हो'

सबसे ताज़ा घटना दिल्ली से सटे बल्लभगढ़ की है, जहां 16 साल के एक मुसलमान युवक जुनैद हाफिज़ को ट्रेन में भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला.

ऐसे में हमने अपने पाठकों से पूछा था कि क्या भारत का मुसलमान किसी ख़ौफ़ में जी रहा है?

इस पर लोगों ने हमें अपनी राय दी. इस विषय पर हमें हज़ारों लोगों के कमेंट मिले. जवाब में पाठकों ने मिलीजुली प्रतिक्रिया दी है.

'भरोसा दिलाने की आवश्यकता'

उमाशंकर जटवार ने लिखा है कि इस वक़्त मुस्लिम समुदाय को हमारे 'ईद मुबारक' लिखे-बोले से कहीं ज्यादा भरोसा पैदा करने की जरुरत है. उन्हें यक़ीन दिलाने की ज़रूरत है कि वो हमारे दुश्मन नहीं है. हम उनसे नफ़रत नहीं करते. उन्हें इस बात का यक़ीन दिलाया जाना ज़रूरी है कि वो भी इस देश में उतने ही नागरिक हैं जितने हम हिंदू हैं. उनके भी उतने ही अधिकार हैं जितने हमारे हैं. बराबरी का अहसास दिलाना ज़रूरी है.

गुरूदेव नानावारे ने लिखा है कि मोदी राज में भारत का मुसलमान ही नहीं, बल्कि दलित और आदिवासी भी ख़ौफ़ में जी रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट HAJI ALTAF
Image caption सांकेतिक तस्वीर

सरकार की ज़िम्मेदारी

विजय जाट ने लिखा है कि जो लोग भारत में रहते हैं और यहां की सोचते हैं, वो खुल कर जीते हैं. लेकिन जिसका जिस्म भारत का है और दिल पाकिस्तान का, वो ख़ौफ़ में जी रहे हैं और वो लोग आगे भी ख़ौफ़ में ही जिएंगे.

ज़ाकिर हुसैन ने लिखा है कि भारत में ख़ौफ़ में तो पूरा समाज है. लेकिन मुसलमानों में ज़्यादा ख़ौफ़ है. यह सच है. ज़्यादातर घटनाएं मुसलमानों के साथ हो रही हैं. सरकार को इसकी ज़िम्मेदारी लेते हुए इसका ध्यान रखना चाहिए.

ग़ुलाम मोइनुद्दीन ने लिखा है कि मुसलमानों को कभी इंसान का ख़ौफ़ होता ही नहीं. मुसलमान सिर्फ़ अल्लाह का ख़ौफ़ रखते हैं. राजनीति करने वाले लोग देश को तबाह कर रहे हैं और लोग धर्म देखकर इंसानियत को बर्बाद कर रहे हैं.

ज़ुबैर खान ने लिखा है कि भारत में जितने मुसलमान हैं, वो सभी पाकिस्तानी हैं. यह बात एक दिन हिंदुस्तान को बर्बाद कर देगी.

शकील अहमद ने लिखा है कि भारत का इंसान किसी इंसान से नहीं डरता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे