#NotInmyName जैसी निंदा पाखंड हैः बीजेपी

भारत में भीड़ के हाथों हत्या के बढ़तों मामलों के ख़िलाफ़ बुधवार को कई जगह प्रदर्शन हुए.

प्रदर्शन के लिए सोशल मीडिया पर #NotInMyName चलाया गया था.

#NotInMyName: 'अरब क्रांति से बड़ा होगा ये आंदोलन'

इमेज कॉपीरइट @NalinSKohli

सत्ताधारी भाजपा ने इन प्रदर्शनों को पाखंड कहा है.

भाजपा प्रवक्ता नलिन एस कोहली ने ट्वीट कर कहा, "हर लिंचिंग हत्या है. इसकी निंदा होनी ही चाहिए. दोषियों को फांसी दी जानी चाहिए. बात ख़त्म. #NotInMyName जैसी चयनात्मक निंदा पाखंड है."

नज़रिया: हिंदुओं के 'सैन्यीकरण' की पहली आहट

पहलू, अख़लाक़ को मारने में भीड़ क्यों नहीं डरती?

इमेज कॉपीरइट @Swapan55

भाजपा सांसद स्वपन दासगुप्ता ने लिखा, "मुझे इसकी निष्ठा पर शक़ नहीं है लेकिन #NotInMyName मुझे मीडिया का, मीडिया के लिए, मीडिया के द्वारा किया प्रदर्शन लगता है."

विवेक अग्निहोत्री ने ट्वीट किया, "ये प्रदर्शन भीड़ के हाथों क़त्ल के ख़िलाफ़ हैं या मोदी के, आप ही तय कीजिए."

'पिता की मौत के बाद भी उन्हें देख नहीं सका'

'पुलिस न आती तो वो हमें ज़िंदा जलाने वाले थे..'

इमेज कॉपीरइट @MrsGandhi

बीजेपी महिला मोर्चा की सदस्य प्रीति गांधी ने ट्वीट किया, "अवॉर्ड वापसी गैंग और चर्च पर झूठों हमलों पर प्रदर्शन करने वाले लोग ही अब #NotInMyName अभियान चला रहे हैं. वही पुराने लोग हैं जिनका दोबारा रिसाइकल करके इस्तेमाल किया जा रहा है."

भाजपा की आईटी टीम के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट किया, "#NotInMyName के आयोजक कराची के लोगों के संपर्क में थे ताकि पाकिस्तान की ज़मीन पर भी प्रदर्शन हो सकें. मैंने तो पहले ही बता दिया था कि ये लोग राष्ट्र विरोधी हैं."

भीड़ के हाथों हत्या के मामलों पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभी तक कोई बयान नहीं आया है.

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि सरकार भीड़ के हाथों हत्या के मामलों में ढील बरत रही है और ऐसी घटनाओं की ज़िम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे