सोशलः जब ममता बनर्जी ने जन्मदिन पर नेपाली में दी कवि को श्रद्धांजलि

ट्विटर इमेज कॉपीरइट Twitter/Mamata Banerjee

'कवि भानुभक्त को जन्मदिवसमा श्रद्धांजली.'

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी का नेपाली कवि भानुभक्त के जन्मदिन पर किया ये ट्वीट कुछ लोगों को रास नहीं आ रहा है.

भीड़ की सियासत की शिकार होतीं ममता बनर्जी?

'रामायण' का नेपाली में अनुवाद करने वाले कवि भानुभक्त आचार्य का 13 जुलाई को जन्मदिन था. वो नेपाली भाषा के जाने-माने कवि भी थे. उनका जन्म साल 1814 में और मौत 1868 में हुई थी.

ममता बनर्जी ने इस मौके पर नेपाली भाषा में ट्वीट करते हुए कवि भानुभक्त को याद किया.

ट्विटर पर विरोध और तारीफ़

इस पर सोशल मीडिया में उनकी कुछ लोगों ने तारीफ़ की तो कुछ यूज़र्स ने दार्जिलिंग में अशांति की याद दिलाई.

नेपाल में रहने वाले बासुदेव पोखरल लिखते हैं, "जन्मदिन पर श्रद्धांजलि देने का क्या मतलब बनता है?"

अभी दार्जिलिंग में गोरखालैंड की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं और लोगों ने ट्वीट के बहाने सवाल भी किया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

ट्विट हैंडल से @rajeshxarma ने लिखा है, "श्रद्धांजलि नहीं चाहिए, हमें गोरखालैंड चाहिए."

जयंत मिश्रा नाम के एक अन्य यूज़र ने सवाल किया है, "भानुभक्त को आप याद तो करती हैं लेकिन उनके वंशज गोरखाओं का दार्जिलिंग में क़त्लेआम क्यों हो रहा है?.''

हालांकि कुछ लोगों ने उनकी तारीफ़ की है, तो कुछ लोगों ने ट्वीट में भाषाई ग़लती की ओर इशारा किया है.

जॉयदेव कहते हैं, "हम आपको पसंद करते हैं ममता दीदी. आप बंगाल की मां हैं."

दीपेश सिंह राणा ने कहा, "नेपाली भाषा में ट्वीट करने के लिए शुक्रिया. लेकिन अब भी कुछ ग़लतियां हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे