पाकिस्तान सोशल: 'गो नवाज़ गो से शुरू, गॉन नवाज़ गॉन पर ख़त्म'

इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ को पनामा लीक्स मामले में दोषी क़रार दिया है.

इसके बाद वे प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य हो गए और उन्होंने प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे दिया.

पनामा मामले में नवाज़ शरीफ़ की कुर्सी गई

सियासी मैदान में टिक पाएँगे नवाज़ शरीफ़?

'नवाज़ शरीफ़ को शहीद बनाने का वक़्त नहीं आया है'

कोर्ट के फ़ैसले के बाद से ही पाकिस्तान की सोशल मीडिया में #पनामावर्डिक्ट #नवाज़शरीफ़ #गॉननवाज़गॉन #प्राइममिनिस्टर ट्रेंड कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

मरियम मैडनेस नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "प्रिय दुनिया, मुझे पाकिस्तान पर गर्व है कि यहां पीएम को भ्रष्टाचार के आरोप में अयोग्य घोषित किया गया है.... ये एक नए पाकिस्तान की शुरूआत है."

शाहज़ेब जिलानी ने लिखा, "ये मामला भ्रष्टाचार का कम और ज़िम्मेदारी का अधिक है. ये हमें याद दिलाता है कि पाकिस्तान पर शासन करने वाला राजनीतिक वर्ग कैसा है."

इमेज कॉपीरइट Twitter

नुदर्रत ख़्वाज़ा ने लिखा, "पाकिस्तान का इतिहास: सैन्य से न्यायिक तख़्तापलट तक."

जन्नत ने लिखा, "ये सब गो नवाज़ गो से शुरू हुआ और गॉन नवाज़ गॉन पर आकर ख़त्म हुआ."

मेहताब अरशद ने लिखा, "पाकिस्तान में गए युग की शुरूआत हो गई है, मुझे अपने सुप्रीम कोर्ट पर गर्व है और अपने पाकिस्तानी होने पर भी."

इमेज कॉपीरइट Twitter

शाहरोज़ आरिफ़ ने लिखा, "मानवता में फिर से विश्वास हो गया. पाकिस्तान ज़िदाबाद."

राणा उस्मान ने पूछा, "क्या बदल जाएगा अगर अगला प्रधानमंत्री भी उसी पार्टी से होगा?"

भारत के सोशल मीडिया पर भी इस पर चर्चा चल रही है और कई लोग इस पर बात कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस पर भारत के कांग्रेस से वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने लिखा, "पाकिस्तान के पीएम नवाज़ शरीफ़ को सुप्रीम कोर्ट ने अयोग्य बता दिया है. पीएम महोदय हमारे यहां के पनामा पेपर्स में जिन्हें दोषी बताया गया है उनका क्या."

अनिल ने लिखा, "पाकिस्तान की सुप्रीक कोर्ट की इज़्ज़त करता हूं, उन्होंने पीएम को इस्तीफ़ा देने पर मजबूर कर दिया."

इमेज कॉपीरइट Twitter

नवनीत मुंद्रा ने लिखा, "ये चौंकाने वाला है. इस तरह का कुछ कभी भारत में होगा इसकी मुझे उम्मीद भी नहीं है! मौजूदा प्रधानमंत्री को अयोग्य घोषित करना.... पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट को सलाम है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे