सोशल- चीनी मुक्केबाज़ को हराने वाले विजेंदर की जीत को रामदेव ने डोकलाम से क्यों जोड़ा?

विजेंदर सिंह इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय मुक्केबाज़ विजेंदर सिंह ने शनिवार को 'बैटल ग्राउंड एशिया' मुक़ाबले में चीनी मुक्केबाज़ जुल्पीकार मैमैतियाली को मात दी है.

मुंबई में खेला गया ये मुक़ाबला इसलिए भी ख़ास था क्योंकि विजेंदर के सामने चीनी मुक्केबाज़ थे. ऐसे में डोकलाम विवाद के बीच इस मैच को लेकर भारतीय फैन्स के बीच काफी रोमांच रहा.

इस मैच में चीनी मुक्केबाज़ को हराने के बाद विजेंदर ने ट्वीट किया, ''ये जीत भारत और चीन के बीच शांति और सामंजस्य के लिए समर्पित. जय हिंद.''

मैच के बाद विजेंदर ने चीनी मुक्केबाज़ की तारीफ़ करते हुए कहा, ''मुझे लगा था कि चीनी माल ज़्यादा दिन नहीं चलेगा लेकिन इसने मुझे सरप्राइज़ किया. सरप्राइज़.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

डोकलाम में जीत दोहराएंगे?

विजेंदर की इस जीत पर कई दिग्गजों ने ट्वीट किए. बाबा रामदेव ने विजेंदर को बधाई देते हुए लिखा, ''विजेंदर को बड़ी जीत की बधाई. मुंबई में चीनी को तगड़ी हार मिली. ऐसा ही कुछ डोकलाम में भी होगा.''

रामदेव इस मुक़ाबले को लेकर मैच शुरू होने से पहले से काफी उत्साहित नज़र आ रहे थे. ट्वीटर पर रामदेव ने विजेंदर के साथ कई तस्वीरें भी पोस्ट की थीं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

विजेंदर की जीत को डोकलाम से जोड़ने पर कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने अपनी प्रतिक्रियाएं दीं.

शुभेंदु शेखर लिखते हैं, ''डोकलाम में लड़ने के लिए आप भी जाएंगे क्या. बातचीत का समर्थन कीजिए. हमें जंग नहीं चाहिए.''

रजत डावर कहते हैं, ''ऐसी फर्ज़ी बहादुरी की बातें न करें. पिछली बार आप लेडीज़ कपड़े पहनकर कूदे थे न स्टेज़ से, लोकपाल के टाइम पर.''

मनीष यादव लिखते हैं, ''बाबा जी चीनी सामान और चीनी आदमी की कोई गारंटी नहीं होती.''

सुरेश महादेव ने लिखा- आपकी बात सच हो स्वामीजी.

इमेज कॉपीरइट AFP

मैच का हाल

  • ये विजेंदर का नौवां पेशेवर मुक़ाबला था.
  • विजेंदर और जुल्पीकार के बीच मुक्केबाज़ी के मुक़ाबले को 'बैटल ग्राउंड एशिया' का नाम दिया गया था.
  • 10 राउंड तक चला ये मुक़ाबला कितना नजदीकी रहा इसका अंदाज़ा स्कोर के जरिए लगाया जा सकता है.
  • तीन जज़ों ने 96-93, 95-94 और 95-94 के करीबी अंतर से ये मुक़ाबला भारतीय मुक्क़ेबाज विजेंदर के पक्ष में घोषित किया.

चीनी मुक्केबाज़ पर भारी पड़े विजेंदर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे