सोशल- अंजाने में अमरीकी राजदूत पर हुआ मोदी की अपील का असर?

ट्विटर इमेज कॉपीरइट Twitter

भारत में अमरीकी राजदूत मैरीके कार्लसन को आपकी मदद चाहिए.

ये मदद किसी राजनीतिक या कूटनीतिक मसले के लिए नहीं, बल्कि स्वतंत्रता दिवस पर साड़ी पहनने को लेकर है.

मैरीके कार्लसन ट्विटर पर बीते कुछ दिनों से #sareesearch के साथ स्वतंत्रता दिवस पर पहली बार साड़ी पहनने की इच्छा को ज़ाहिर कर रही हैं.

वो लोगों से पूछ रही हैं कि स्वतंत्रता दिवस पर कौन सी भारतीय साड़ी पहनी जाए?

कांजीवरम या तसर सिल्क?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते कुछ वक्त में देशवासियों से जिन स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने की बात करते हैं, जाने-अनजाने या शौक-शौक में उस पर अमरीकी राजदूत अमल कर रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

क्या कहती हैं अमरीकी राजदूत?

  • ''भारतीय साड़ियां मुझे बेहद पसंद हैं. मैं 'साड़ी सर्च' पर निकली हूं, ताकि स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय साड़ी पहन सकूं.
  • भारत का स्वतंत्रता दिवस आ रहा है. मैं इस मौके का इस्तेमाल अपनी पहली साड़ी खरीदने के लिए करूंगी.
  • मैं खादी ग्रामोउद्योग में आई हूं ताकि साड़ी खरीद सकूं लेकिन ये मुश्किल काम रहेगा. मुझे लगता है कि मुझे आपकी मदद चाहिए होगी.
  • मैंने खादी ग्रामउद्योग से चार साड़ी ले ली हैं- डुपियन, कांजीवरम, तसर सिल्क और जामदानी. लेकिन इनमें से एक चुनना मेरे लिए मुश्किल हो रहा है.
  • मैं उम्मीद करती हूं कि आप ऑनलाइन अपना वोट डालकर साड़ी चुनने में मेरी मदद करेंगे.''
इमेज कॉपीरइट Twitter

कार्लसन के साड़ी प्रेम को 'मुफ्त सलाह'

कार्लसन के यूं भारतीय साड़ी के लिए दीवानगी दिखाने को लोग ट्विटर पर काफी पसंद कर रहे हैं. कुछ लोग उन्हें साड़ी को लेकर सलाह भी दे रहे हैं.

@BLRAviation हैंडल से सलाह दी गई, ''कोशिश कीजिएगा कि आप ब्लैक ब्लाउज न पहनें.''

जवाब देते हुए कार्लसन ने लिखा, ''सहमत हूं. ब्लैक ब्लाउज़ बिलकुल भी नहीं पहनूंगी.''

ट्विटर पर @raopm9 लिखते हैं, ''मैडम, आपको स्वतंत्रता दिवस समारोह में कांजीवरम पहननी चाहिए और डिनर पर तसर पहनिए.''

चारों साड़ियों को लेकर लोग अपनी-अपनी सलाह दे रहे हैं.

लेकिन अमरीकी राजदूत पर किसकी सलाह का असर होगा और वो 15 अगस्त को कौन सी साड़ी पहनेंगी, इसके लिए इंतज़ार कीजिए.

88 साल पुराने साड़ी ब्रांड की 'नई पहचान'

साड़ी जो दो साल में तैयार होती है...

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे