सोशल: महिलाओं का बीजेपी नेता को जवाब, मैं सिंड्रेला नहीं हूं

सिंड्रेला, महिलाएं, वर्णिका कुंडू, सोशल मीडिया, विकास बराला, बीजेपी इमेज कॉपीरइट Twitter

सिंड्रेला की कहानी तो आप सबने सुनी होगी. वो प्यारी सी लड़की, जिसे उसकी सौतेली मां और बहनें तंग करती हैं. उसके पास पार्टी में जाने के लिए ढंग के कपड़े भी नहीं होते.

एक दयालु परी आपनी जादुई शक्ति से उसे अच्छी तरह सजाकर तैयार कर देती है और पार्टी में जाने को कहती है. लेकिन इस जादू में एक पेंच था. परी ने सिंड्रेला को रात 12 बजे तक घर वापस आने को कहा था क्योंकि आधी रात के बाद उसका जादू बेअसर हो जाता था.

अचानक सिंड्रेला की कहानी याद करने की वजह है सोशल मीडिया पर छाया एक हैशटैग. यह है #Ain'tNoCinderella, यानी मैं कोई सिंड्रेला नहीं हूं. यह हैशटैग हाल में चंडीगढ़ में हुए वर्णिका कुंडू मामले से जुड़ा है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

चंडीगढ़ में हरियाणा बीजेपी प्रमुख सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके एक साथी द्वारा एक आईएएस अधिकारी की बेटी वर्णिका का पीछा किए जाने की घटना सामने आई थी. इसके बाद वर्णिका ने एक फेसबुक पोस्ट में आपबीती सुनाई और सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया था.

21वीं सदी की सिंड्रेला घुटने नहीं टेकेगी

बात मीडिया में आने पर हरियाणा में बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष रामवीर भट्टी ने उल्टे वर्णिका को ही दोषी ठहराते हुए कहा कि लड़की को देर रात घर से बाहर नहीं रहना चाहिए था. उनके इस बयान ने आग में घी डालने का काम किया और महिलाएं विरोध में उतर आईं.

चंडीगढ़: भाजपा नेता के विवादित बयान पर बवाल

अब वे सोशल मीडिया में नाइट आउट सेल्फ़ी डालकर कह रही हैं- #Ain'tNoCinderella यानी मैं कोई सिंड्रेला नहीं हूं जो आधी रात तक घर लौट आऊं. फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम से लेकर स्नैपचैट जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ऐसी सेल्फियों और हैशटैग से भर गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी #Ain'tNoCinderella पर सेल्फी पोस्ट करते हुए लिखा है,''मैं रात के 12 बजे घर से बाहर हूं और इसका मतलब यह नहीं मेरा पीछा किया जाए, मुझसे छेड़खानी की जाए या मेरा रेप किया जाए. मेरा सम्मान मेरा अधिकार है.''

चंडीगढ़ छेड़छाड़ केस: ग़लती कर बैठीं बीजेपी प्रवक्ता?

पूजा ने ट्वीट किया,''प्रिय रूढ़िवादी भारत, मुझे जो अच्छा लगेगा, मैं करूंगी. चाहे दिन हो या रात हो. ये सोचिएगा भी मत आपको मुझे रोकने का हक है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

पलक शर्मा अपनी तस्वीर के साथ लिखती हैं,''देखिए, आधी रात हो गई है और मैं बाहर हूं!''

सुनयना सुरेश ने कहा,''रात पर मेरा अधिकार है और कोई नेता बाहर निकलने के लिए मुझ पर उंगली नहीं उठा सकता.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

सुरभि कहती हैं,''मैं क्या पहनती हूं, कब तक घर से बाहर रहती हूं, किसके साथ घूमती हूं....इन सबसे आपको कोई मतलब नहीं होना चाहिए क्योंकि मैं सिंड्रेला नहीं हूं.''

महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों के मामले में आम तौर पर पीड़ित को ही दोषी ठहरा दिया जाता है जिसका विरोध आज इस रूप में देखने को मिल रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे