मोदी के दुख जताने पर चीनी क्यों भड़के?

मोदी, वीबो अकाउंट

चीन के सिचुआन में आए भूकंप पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अफसोस ज़ाहिर करना वहां के लोगों को ज्यादा पसंद नहीं आया.

8 अगस्त को आए भूकंप के बाद मोदी ने पीड़ितों के लिए चीनी सोशल मीडिया वीबो पर संवेदना प्रकट की थी जिसे लेकर नकारात्मक प्रतिक्रियाएं आईं.

रिक्टर स्केल पर सात तीव्रता वाले इस जानलेवा भूकंप में कम से कम 20 लोग मारे गए और 431 घायल हुए.

मोदी ने वीबो पर अपने पोस्ट में लिखा, "सिचुआन भूकंप में मारे गए लोगों के प्रति मेरी गहरी संवेदना. भारत के लोग पीड़ित परिवारों के लिए प्रार्थना करते हैं और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं."ॉ

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोदी के इस पोस्ट पर ज्यादातर नकारात्मक प्रतिक्रियाएं सामने आईं. कई लोगों ने उनसे डोकलाम के इलाके में भूटान और चीन के बीच जारी सीमा विवाद पर ध्यान देने के लिए कहा. भारत इस क्षेत्र पर भूटान के दावे का समर्थन करता है.

भारत-चीन: तनाव कहीं का और मोर्चाबंदी कहीं

भारत-चीन तनाव: और सैनिकों की तैनाती

'भारत और चीन में युद्ध की उल्टी गिनती शुरू'

वीबो पर बवाल

सिचुआन प्रांत के चेंग्दू क्षेत्र के एक यूजर ने वीबो पर लिखा है, "सिचुआन के लोगों का कहना है कि चीनी इलाके से पीछे हटना ही संवेदना प्रकट करने का सबसे अच्छा तरीका है."

वो आगे लिखते हैं, "अगर वे पीछे नहीं हटते हैं तो ये महज झूठे मानवीय शब्द होंगे. कोई देश और उसके लोग इतना पाखंड कैसे कर सकते हैं."

युन्नान प्रांत के लिजांग इलाके से एक अन्य वीबो यूजर ने लिखा है, "मोदी घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं. जवानों की जिंदगी के साथ जुआ खेलने की चाहत रखना मानवीय कैसे हो सकता है."

कुछ ऐसे ही सुर शांक्शी प्रांत के शियान इलाके के एक यूजर के भी हैं. उन्होंने लिखा है, "ये मत समझिए कि सहानुभूति के कुछ शब्दों पर हम पिघल जाएंगे. फौज भेजना और संवेदना के शब्द जाहिर करना दोनों अलग-अलग बातें हैं."

‘भारत में जो आज़ादी है वो चीन में नहीं’

भारत-चीन की लड़ाई में नेपाल किस तरफ़ जाएगा?

'भारत-चीन की दोस्ती ही है कि मैं घर आ सका'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डोकलाम विवाद

वीबो पर प्रधानमंत्री मोदी को लेकर कुछ लोगों का लहजा बेहद तल्ख था और मोदी की संवेदना के शब्दों पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देने वाले लोग भी मिले.

तियानजिन के एक यूजर ने मोदी की संवेदना जाहिर करने पर लंबा पोस्ट लिखा है, "मैं उम्मीद करता हूं कि सभी लोग शांत रहेंगे और ज्यादा तल्ख नहीं होंगे."

इस यूजर ने आगे लिखा है, "सिचुआन भूकंप के पीड़ितों के लिए मोदी ने वीबो पर संवेदना प्रकट की है. एक महान राष्ट्र के नागरिक के तौर पर हमें इसका जवाब देना चाहिए. ये एक अलग मुद्दा है. डोकलाम में हम जमीन का एक इंच भी नहीं छोड़ सकते हैं. यही सिद्धांत है."

"लेकिन डोकलाम के मुद्दे को हल करने के लिए हमें एक महान राष्ट्र की समझदारी को दिखलाने की जरूरत है. ये कहा जा सकता है कि भारत और चीन की उत्पत्ति एक ही स्रोत से हुई है. हमारे ऐतिहासिक संबंध रहे हैं और अतीत में कभी भी नफरत का रिश्ता नहीं रहा है. 1962 की लड़ाई के हम विजेता हैं."

सिक्किम में भारत-चीन की सेना आमने-सामने!

भारत-चीन भिड़े तो नतीजे कितने ख़तरनाक?

भारत-चीन विवाद: अब तक क्या-क्या हुआ?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वीबो पर मोदी

उन्होंने लिखा है, "क्या हमें ये नहीं कहना चाहिए कि एक अच्छा पड़ोसी एक और दुश्मन से अच्छा होता है. हमारे आस-पास का माहौल बहुत अच्छा नहीं है. हमारे असली दुश्मन देख रहे हैं और इंतजार कर रहे हैं कि हम कब मुश्किल में पड़ते हैं. फिलहाल हमें शांत रहने की जरूरत है."

इसी बात को बढ़ाते हुए शानडोंग प्रांत के एक यूजर ने लिखा है, "अगर चीन और भारत सीमा विवाद को जल्द से जल्द सुलझा लें तो ये दोनों देशों के लोगों के लिए बहुत बड़ा वरदान होगा."

मई, 2015 में अपनी चीन यात्रा से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीबो पर खाता खोला था.

15 जून को उन्होंने शी जिनपिंग को जन्मदिन की बधाई दी थी और एक जुलाई को उन्होंने अपने चीनी समकक्ष ली कचियांग को बर्थडे विश किया था. इस समय वीबो पर मोदी को तकरीबन 1,60,000 लोग फॉलो करते हैं.

भारत-चीन के सैनिकों के बीच कब-कब ठनी'

'भारत चीन विवाद पर भूटान में कोई हल्ला नहीं'

क्या भारत-चीन युद्ध के कगार पर खड़े हैं?

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)