सोशल: गोरखपुर त्रासदी पर नरेंद्र मोदी ने जो कहा, क्या वो काफ़ी है?

मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

15 अगस्त, दिन मंगलवार को भारत अपना 71वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चौथी बार लाल किले से भाषण दिया.

इससे पहले उन्होंने लोगों से नमो ऐप पर अपने भाषण के लिए सलाह भी मांगी थी. लोग उम्मीद कर रहे थे कि प्रधानमंत्री गोरखपुर में बच्चों की मौत पर कुछ ठोस बातें कहेंगे.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

पीएम मोदी ने अपने भाषण में गोरखपुर त्रासदी का ज़िक्र तो किया लेकिन मुश्किल से चंद शब्दों में. उन्होंने भाषण की शुरुआत में मासूमों की मौत पर अफ़सोस ज़ाहिर किया. पहले उन्होंने प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान की बात की और फिर बच्चों की मौत पर दुख जताया.

इमेज कॉपीरइट Facebook

प्रधानमंत्री के इस रवैये से लोग ख़ासे निराश दिखे. ऋषभ श्रीवास्तव ने फ़ेसबुक पर लिखा, ''दो दिन पहले सरकार ने कहा कि सेलिब्रेशन नहीं रुकेगा तो लोगों ने कहा 60 बच्चों की मौत को नहीं भूलने देंगे. सरकार तो नहीं भूली है, अपना काम कर रही है. जनता ज़रूर भूल गई.''

कश्मीर समस्या न गाली से, न गोली से सुलझेगी: मोदी

वो दिन जब 'पंडित माउंटबेटन' ने फहराया तिरंगा

स्वाति मिश्रा तंज़ कसते हुए लिखती हैं,''शब्द बचाते हुए एक ही वाक्य में 'प्राकृतिक आपदा' और 'अस्पताल में बच्चे मरे'. मोदी जी ने कहा नहीं, गोरखपुर को रिक्त स्थान में आप ख़ुद भर लीजिए.''

इमेज कॉपीरइट Facebook

अनीता आज़ादी की सालगिरह पर मुबारकबाद तो देती हैं लेकिन लौट कर न आने वाले बच्चों को याद करने की बात भी कहती हैं. बिलाल जाफ़री कहते हैं, ''हालात-ए-मुल्क देख के रोया न गया, कोशिश तो की पर मुँह ढक के सोया न गया.''

इमेज कॉपीरइट Facebook

स्वतंत्र मिश्रा ने अपनी फ़ेसबुक पोस्ट में लिखा, ''गोरखपुर में 70 बच्चों के मारे जाने पर आज परेड, तोपों की सलामी और झांकी व जलसों को थोड़ा बंद कर देते तो ठीक होता. इस मौके पर भाषण तो बिल्कुल भी नहीं अच्छा लगेगा.''

इमेज कॉपीरइट Facebook

अभय चावला ने पूछा, ''गोरखपुर में इतने बच्चों की मौत हो गई. कैसी आज़ादी?'' कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने भी पीएम मोदी के इस तरीके की आलोचना की है.

इमेज कॉपीरइट Facebook

उन्होंने कहा, ''प्रधानमंत्री मोदी ने बड़े ही हल्के अंदाज़ में अन्य प्राकृतिक आपदाओं के साथ गोरखपुर त्रासदी का ज़िक्र कर दिया. उन्हें सतर्क रहना चाहिए था.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)