सोशल: 'मोदी जी मिडिल क्लास ही नहीं, सीईओ की नौकरी भी सुरक्षित नहीं'

विशाल सिक्का, इंफ़ोसिस, नारायण मूर्ति, सोशल मीडिया इमेज कॉपीरइट Getty Images

विशाल सिक्का ने इंफ़ोसिस के एमडी और सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया है. कंपनी ने यूबी प्रवीण राव को अंतरिम मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ नियुक्त किया है.

इसके साथ ही विशाल सिक्का को एक्जिक्यूटिव वाइस चेयरमैन बनाया गया है. सिक्का ने अपने ट्विटर हैंडल पर इसकी जानकारी दी है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

उन्होंने 'मूविंग ऑन' नाम से एक ब्लॉग लिखकर अपने फ़ैसले का ऐलान किया है. सिक्का ने सीईओ के तौर पर तीन साल पूरे किए हैं.

इन्फ़ोसिस में भी टाटा जैसी जंग के संकेत

उनके इस्तीफे की खबर बाहर आते ही सोशल मीडिया में #VishalSikka और #Infosys टॉप ट्रेंड में आ गए. लोगों ने चुटकुले और मीम्स बनाने भी शुरू कर दिए.

इमेज कॉपीरइट Twitter

शुभंकर मुखर्जी ने ट्वीट किया,''इंफ़ोसिस पर नोटबंदी का झटका, विशाल सिक्का अब नहीं चलेगा.'' किसी ने पूछा,''भाई कहां स्विच मारा? कितनी हाइक दे दी?'' एक दूसरे सोशल मीडिया यूज़र ने लिखा,''लगता है सिक्का का अप्रेजल ठीक नहीं हुआ था.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

एन. चंद्रमोहन को लगता है कि राहुल गांधी विशाल सिक्का के हर फ़ैसले पर नज़र रख रहे हैं. ब्रजेश जोशी ने लिखा,''विशाल सिक्का का सिक्का उछल गया.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

वरुण महाजन ने चुटकी ली,''मोदी जी के भारत सिर्फ मिडिल क्लास ही नहीं, सीईओ की नौकरी भी सुरक्षित नहीं है.' एक अन्य ट्विटर यूज़र का कहना है,''विशाल सिक्का की जगह आधार लेगा क्योंकि आधार माफिया की मानें तो कैश और सिक्कों की जगह आधार आने वाला है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सिक्का ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि पिछले कुछ वक़्त के माहौल और लगातार बढ़ते व्यक्तिगत हमलों की वजह से उनके लिए पद पर बने रहना मुमकिन नहीं था.

इमेज कॉपीरइट Blogspot

उन्होंने स्टीव जॉब्स की कही बात दुहराई और कहा कि वह किसी और की ज़िंदगी जीते हुए अपना वक़्त नहीं गुजार सकते. सिक्का का कहना है कि उन्होंने अपने दिल की आवाज़ सुनकर यह फ़ैसला लिया है.

वो लिखते हैं,''कई लोगों ने मुझसे पूछा कि क्या मुझे किसी तरह का पछतावा है. इसका साफ़ जवाब है-नहीं.'' सिक्का ने साथ देने के लिए लोगों का शुक्रिया भी अदा किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे