सोशल: क्यों कोहली बोले- बच्चे को धमकाकर कुछ नहीं सिखाया जा सकता

कोहली इमेज कॉपीरइट Instagram

अपने बच्चों को पढ़ाने की कोशिशों में डांटना या पीटना नई बात नहीं है.

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने इंस्टाग्राम पर एक बच्ची को पढ़ाते हुए डांटने और थप्पड़ लगाने का वीडियो शेयर किया है.

इस वीडियो में एक महिला बच्ची को गिनती पढ़ा रही है. बच्ची पूरे वीडियो में दहशत से रोती नज़र आ रही है. बच्ची के मन में ये दहशत इतनी ज्यादा होती है कि कभी वो हाथ जोड़ती दिखती है तो कभी ये कहते हुए कि 'प्यार से पढ़ाओ न प्लीज़, मुझे हैडक हो रहा है.'

इमेज कॉपीरइट Instagram

विराट कोहली इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखते हैं, ''सच ये है कि बच्चों के दर्द और गुस्से को नज़रअंदाज़ किया जा रहा है. बच्चे को सिखाने के लिए अहंकार में इस कदर डूबे हुए हैं कि कुछ नज़र ही नहीं रहा है. ये बेहद दुखी करने वाली बात है. एक बच्चे को धमकाकर कुछ भी सिखाया नहीं जा सकता. ये बेहद दिल दुखाने वाला है.''

वीडियो में बच्ची को पढ़ाती महिला डांटते हुए बस गिनती सुनना चाह रही है. उस पर बच्ची के रोने का कोई असर नहीं होता.

कोहली के इस शेयर किए वीडियो को चार घंटे में करीब 12 लाख लोग देख चुके हैं. वीडियो पर कुछ लोग कोहली के सुर से सुर मिलाते हुए बच्ची को पीटे जाने के रवैये को गलत बताते हैं तो कुछ इसे जायज़ भी ठहरा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Instagram

@imtenan18 यूज़र लिखते हैं, ''हम सब तो इस तरह ही पढ़कर बड़े हुए हैं. तुम कोई दूसरी दुनिया से आए लगते हो.''

प्रियंका लिखती हैं, ''वाकई ऐसे अभिभावक और ट्यूटर को ऐसे ही पीटे जाने की ज़रूरत है जैसे कि वो बच्चों के साथ करते हैं. बच्ची को डरा हुआ, गुस्से में देखना बहुत दिल तोड़ने जैसा है.''

रेणुका जुनेजा ने लिखा, ''बच्चे बहुत स्पेशल होते हैं. हर बच्चा टॉप नहीं कर सकता. हर बच्चे में अलग टैलेंट होता है. जैसे ये महिला इस बच्ची को सिखा रही हैं वो किसी काम का नहीं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे