तीन तलाक़ के फ़ैसले पर क्या है पाकिस्तानियों का कहना?

तीन तलाक़ इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय बेंच ने फ़ैसला सुनाते हुए मुसलमानों में शादी ख़त्म करने की एक साथ तीन तलाक़ की प्रथा को असंवैधानिक क़रार दिया है.

कोर्ट ने तीन तलाक़ (इंस्टेंट) पर फिलहाल छह महीने के लिए रोक लगा दी है और केंद्र सरकार से इस पर संसद में क़ानून लाने के लिए कहा है.

सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले पर भारत में मिली-जुली प्रतिक्रियाएं हैं. लेकिन एक बड़ा वर्ग इसे महिलाओं के हित में बता रहा है.

तीन तलाक़- जो बातें आपको शायद पता न हों

आपको बता दें कि पाकिस्तान और सऊदी अरब जैसे इस्लामी देशों में तीन तलाक़ पर पाबंदी है. ज़बानी तीन तलाक़ का चलन दुनिया में भारतीय मुसलमानों के बीच ही है और वो भी हनफ़ी विचारधारा को मानने वालों के बीच.

भारत में जहां इसे महिलाओं की आज़ादी से जोड़कर देखा जा रहा है वहीं पाकिस्तान में भी इसे लेकर काफ़ी हलचल है. बीबीसी उर्दू के फ़ेसबुक पेज पर बहुत से लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

इमेज कॉपीरइट Facebook

इस्लामाबाद में रहने वाली सबूही ज़ैदी का कहना है कि जब इंसान गुस्से में होता है तो उसे अंदाज़ा भी नहीं होता है कि वो क्या कह रहा है और क्या कर रहा है.

नज़रिया: 'तीन तलाक़ पर सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला इस्लाम के हक़ में'

हालांकि सरगोधा में रहने वाले उस्मान अहमद का कहना है कि मुस्लिमों को किन नियम-कानून का पालन करना है, वह क़ुरान में लिखा हुआ है. किसी भी दूसरे यह बताने की ज़रूरत नहीं है कि क्या सही है और क्या ग़लत.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

नदीम रहमान ने सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले का स्वागत किया है. वहीं नासिर शेख़ कहते हैं कि एक वक्त में तीन तलाक़ इस्लामिक लॉ नहीं है.

उस्मान जफ़र ने भी भारतीय सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को सही बताया है. वो लिखते हैं कि वैसे भी इस्लाम में एक साथ तीन तलाक़ का कॉन्सेप्ट है ही नहीं. देर आए दुरुस्त आए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)