फ़ैसले से पहले क्या बोले गुरमीत राम रहीम?

गुरमीत राम रहीम इमेज कॉपीरइट Facebook

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह पर लगे बलात्कार के आरोपों के मामले में शुक्रवार (25 अगस्त) को फ़ैसला आना है.

और फ़ैसले से ठीक पहले प्रशासन के हाथ-पैर फूले हुए हैं. वजह ये कि डेरा समर्थकों की तरफ़ से प्रदर्शनों की आशंका है.

डेरा सच्चा सौदा से जुड़े 11 बड़े विवाद

रेप मामले में फ़ैसले से पहले राम रहीम के समर्थकों का तांता

डेरा सच्चा सौदा की स्थापना साल 1948 में शाह मस्ताना ने की थी. मौजूदा प्रमुख गुरमीत सिंह ने 1990 में डेरे की गद्दी संभाली थी.

इमेज कॉपीरइट Facebook

कोर्ट का निर्णय आने से पहले गुरमीत राम रहीम सिंह ने कहा कि वो क़ानून का सम्मान करते हैं.

उन्होंने फ़ेसबुक पर लिखा, ''हालांकि हमारी पीठ में दर्द है लेकिन फिर भी क़ानून का पालन करते हुए हम कोर्ट ज़रूर जाएंगे. हमें भगवान पर दृढ़ यक़ीन है.''

इमेज कॉपीरइट Facebook
इमेज कॉपीरइट Facebook
इमेज कॉपीरइट Facebook

पुलिस महकमे ने दावा किया था कि फ़ैसला चाहें जो आए, हालात काबू में रखने के लिए पर्याप्त इंतज़ाम किए गए हैं. साथ ही डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख से अपने अनुयायियों को समझाने की अपील भी की थी.

फ़ेसबुक पोस्ट में गुरमीत राम रहीम ने लिखा, ''सभी शांति बनाए रखें.''

इमेज कॉपीरइट Facebook

इस पर उनके प्रशंसक तारीफ़ कर रहे हैं. सिमरो ने लिखा है, ''हमने आपसे मानवता के महान सबक सीखे हैं और हम देख रहे हैं कि क़ानून का सम्मान कैसे किया जाना चाहिए भले वो आप अपनी सेहत की क़ीमत पर कर रही हों. इसलिए हम आपका इतना सम्मान करते हैं.''

चांदनी ने फ़ेसबुक पर पोस्ट किया, ''आप सच्चे संत हैं और हमारे लिए ईश्वर ने आपको पृथ्वी पर भेजा है और आप हमेशा हमारी दिक्कतें सुलझाते हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे