सोशल: 'पहले जो ट्रेन हैं, उन्हें तो पटरी पर रोक लो'

बुलेट ट्रेन इमेज कॉपीरइट AFP

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे ने भारत की पहली हाई-स्पीड ट्रेन के कामकाज का उद्घाटन कर दिया है.

इस परियोजना की ज़्यादातर फ़ंडिंग जापान से मिलने वाले 17 अरब डॉलर के लोन से होगी. ये बुलेट ट्रेन अहमदाबाद से मुंबई के बीच दौड़ेगी.

लेकिन सोशल मीडिया पर एक तरफ़ जहां बुलेट ट्रेन की तारीफ़ हो रही है वहीं इसे लेकर तंज़ भी कसे जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

वजह ये है कि बीते कुछ दिनों में रेलगाड़ियों के पटरी से उतरने की कई घटनाएं सामने आई हैं.

यहां तक कि पूर्व रेल मंत्री सुरेश प्रभु को भी अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

लोग क्या कुछ कह रहे हैं, गौर कीजिए.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

रोलिंग जॉइंट हैंडल से लिखा गया है, ''बुलेट ट्रेन का क्या...पहले जो है उनको तो पटरी पर रोक लो यार.''

भवेश ने लिखा है, ''मुझे नहीं लगता कि भारत को बुलेट ट्रेन की ज़रूरत है, इसमें भारी निवेश होगा जिसे रेलवे इंफ़्रास्ट्रक्चर सुधारने में इस्तेमाल किया जा सकता है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

सुंदर ने तंज़ कसते हुए लिखा है, ''साल 2022 की ख़बर: मैंटेनेंस की वजह से बुलेट ट्रेन पटरी से उतर गई.''

गुरुवार को जब गुजरात में ये कार्यक्रम शुरू हो रहा था, उससे पहले ही नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर एक ट्रेन पटरी से उतर गई.

इमेज कॉपीरइट AFP

अरुण सिंह ने लिखा है, ''बुलेट ट्रेन प्रतीकात्मक है. अगर मोदी को रेलवे की फ़िक्र होती तो उन्हें ट्रेन के देर से चलने की चिंता होती.''

उन्होंने आगे लिखा है, ''उन्हें उस खाने की चिंता होनी चाहिए जो ट्रेनों में मिलता है. बुलेट ट्रेन कुछ नहीं, महज़ चुनावी एजेंडा है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस बीच कुछ लोग आईआरसीटीसी पर निशाना साध रहे हैं. रमेश ने लिखा है, ''बुलेट ट्रेन को लेकर उत्साहित हूं. आईआरसीटीसी के पास पांच साल ये सुनिश्चित करने के लिए हैं कि टिकट बुक कराने में सफ़र से ज़्यादा वक़्त ना लगे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)