जाधव की परिवार से मुलाक़ात पर क्या कह रहे हैं पाकिस्तानी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तान की अदालत ने कुलभूषण जाधव को फांसी की सज़ा सुनाई है.

पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में फांसी की सज़ा पाने वाले भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव सोमवार को इस्लामाबाद में अपने घरवालों से मिले.

उनकी मां और उनकी पत्नी को उनसे बात करने का मौका मिला है. पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने इस मुलाकात की तस्वीरें भी जारी की हैं.

भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के मीडिया में ये ख़बर पहली सुर्ख़ी बनी है. इसके अलावा भारत और पाकिस्तान दोनों ओर कुलभूषण जाधव का नाम ट्विटर पर भी ट्रेंड कर रहा है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने ट्विटर पर लिखा है कि पाकिस्तान ने कुलभूषण की मुलाक़ात उनके घरवालों से करवाकर अपना वादा पूरा किया है.

इमेज कॉपीरइट PAKISTAN FOREIGN OFFICE
Image caption पाकिस्तान में क़ैद कुलभूषण जाधव अपने परिवार से मुलाक़ात करते हुए.

लेकिन पाकिस्तान में बहुत से लोगों को लगता है कि ये मुलाक़ात नहीं होनी चाहिए थी.

ट्विटर पर कई इस मुद्दे पर ट्वीट कर रहे हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मां और पत्नी से मुलाक़ात के बाद क्या बोले कुलभूषण?

वक़ास अमजद ने ट्विटर पर लिखा, "भारतीय मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि पाकिस्तान ने जेहादियों के अलावा कुछ पैदा नहीं किया है. ये तस्वीर है जिसमें पाकिस्तान ने एक ऐसे जासूस की उसके परिवार से मुलाक़ात करवाई है जिसने देश में बहुत गड़बड़ की है. भले ही कई पाकिस्तान नहीं चाहते थे कि ये मुलाक़ात हो."

मोहम्मद ख़ालिद ने लिखा, "25 दिसंबर के दिन पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव की परिवार से मुलाक़ात करवाकर सद्भावना संकेत दिया है. इससे निश्चित तौर पर पाकिस्तान की सकारात्मक छवि बनेगी और भारत की कूटनीतिक हार होगी. "

अर्सलान ताज ग़ुम्मान ने लिखा, "जाधव की परिवार से मुलाक़ात करवाकर पाकिस्तान ने अच्छा सद्भावना संकेत दिया है. तमाम बाधाओं के बावजूद पाकिस्तान अपने पड़ोसियों से बेहतर संबंध चाहता है. "

नजदा ने ट्विटर पर लिखा, "भारत को अब शर्म आनी चाहिए. हम इंसान हैं और मानवता को बढ़ावा देते हैं. भारतीय अपने तथाकथित बेग़ुनाह बेटे को देखकर ख़ुश हुए होंगे."

मानी अहमद ने लिखा, "परिवार की मुलाक़ात का समय बढ़ा देना चाहिए. मां अपने बेटे के लिए कुछ तोहफ़े लेकर आई है. मां का प्यार ही सच्चा प्यार है."

रियाज़ अली तूरी ने लिखा, "दुनियाभर में जासूसों के साथ ऐसा व्यवहार नहीं किया जाता है. कुलभूषण कई बेग़ुनाह पाकिस्तानियों के क़ातिल हैं. दुखद है कि सरकार दोनों क़ातिलों अहसान उल्लाह अहसान और कुलभूषण जाधव की मौत में देर कर रही है."

शोएब अकरम ने लिखा, "पाकिस्तान ने आज मुलाकात करवाकर भारत पर अपनी नैतिक अथॉरिटी साबित कर दी है औ भारत के प्रोपेगैंडा को बेनक़ाब कर दिया है. आीसीजे के जजों को भी पता चल जाएगा कि पाकिस्तान सच्चा है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे