बेनज़ीर सुपुर्द-ए-ख़ाक

बेनज़ीर भुट्टो
Image caption चुनावी रैली के दौरान एक बम धमाके में बेनज़ीर भुट्टो की मौत हो गई थी

पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो को उनके पैतृक गाँव लरकाना में दफ़ना दिया गया है.

गुरुवार को रावलपिंडी में उनकी हत्या कर दी गई थी. बेनज़ीर भुट्टो के अंतिम दर्शन के लिए लरकाना में लोगों की भारी भीड़ थी.

रावलपिंडी में एक चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद एक बंदूकधारी ने बेनज़ीर भुट्टो पर पहले गोली चलाई और फिर आत्मघाती धमाका कर दिया जिसमें उनकी मौत हो गई.

अभी तक ये स्पष्ट नहीं हो सका है कि उनकी मौत गोली लगने से हुई या बम विस्फोट से.

हालाँकि पाकिस्तानी गृह मंत्रालय के प्रवक्ता इक़बाल चीमा का कहना है कि उनकी मौत विस्फोट के छर्रों से हुई है.

इस हमले में 20 और लोग मारे गए हैं.

राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ ने तीन दिनों के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है. राष्ट्रीय शोक के कारण शिक्षण संस्थान और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद हैं और सड़कों पर सार्वजनिक वाहन नहीं चल रहे हैं.

बेनज़ीर नहीं रहीं

पाकिस्तान के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता जावेद इक़बाल चीमा ने बताया है कि हत्या के पीछे किसका हाथ था, इसकी जाँच के लिए दो समितियाँ गठित की गई हैं जिन्होंने अपना काम शुरु कर दिया है.

बेनज़ीर की हत्या के बाद पाकिस्तान के कई हिस्सों में हिंसा हुई जिसमें दस लोगों की मौत हो गई. सिंध प्रांत में हालात सबसे ज़्यादा तनावपूर्ण है.

हत्याकांड के विरोध में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी, पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज़) और जमाते इस्लामी ने शुक्रवार को आम हड़ताल का आह्वान किया है.

बेनज़ीर के पार्थिव शरीर को लरकाना लाया गया है जहाँ आज उन्हें दफ़नाया जाएगा.

लरकाना में मौजूद बीबीसी संवाददाता निसार खोखर ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री के पार्थिव शरीर को सी-वन-30 विमान से लाया गया है. इस विमान में उनके पति आसिफ़ अली जरदारी और पार्टी के कई अन्य लोग साथ आए हैं.

बेनज़ीर के शव को उनके पिता ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो की क़ब्र के पास ही दफ़नाया जाएगा.

जाँच समितियाँ

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता इक़बाल चीमा ने बताया है कि हत्या की चाँज के लिए गठित दो जाँच समितियों ने अपना काम शुरू कर दिया है.

उन्होंने इस बात से इनकार किया कि हत्यास्थल के आस-पास सबूतों के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ हुई है.

चीमा का कहना था कि इस नृशंस हत्या के पीछे चरमपंथियों का हाथ हो सकता है जो पाकिस्तान के कबायली और अन्य हिस्सों मे आत्मघाती विस्फोट करते रहे हैं.

उन्होंने बताया कि रैली के दौरान बेनज़ीर की सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम किए गए थे लेकिन जाने के समय जब वो अपनी कार का दरवाजा खोल कर अपने समर्थकों की ओर मुख़ातिब हुईं, तभी वो हमले के शिकार बन गईं.

इक़बाल चीमा का कहना था कि बेनज़ीर की गाड़ी बुलेट और बम प्रूफ़ थी. उन्होंने कहा कि बेनज़ीर की मौत गोलियाँ लगने से नहीं हुई बल्कि आत्मघाती विस्फोट के छर्रों से हुईं.

हत्या की निंदा

पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ ने बेनज़ीर भुट्टो की हत्या की निंदा की है और लोगों से शांत रहने की अपील की है. उन्होंने कहा कि 'आतंकवादियों' के मंसूबों को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा.

राष्ट्रपति मुशर्रफ़ ने बेनज़ीर भुट्टो के परिवारवालों के प्रति संवेदना व्यक्त की. उन्होंने तीन दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है. अभी तक किसी ने भी बेनज़ीर भुट्टो पर हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है.

बेनज़ीर भुट्टो की हत्या की कड़ी निंदा हो रही है. अमरीका के राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने इसे कायरतापूर्ण कार्रवाई बताई है. भारत ने भी हत्या की निंदा की है.

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने भी बेनज़ीर भुट्टो की हत्या की आलोचना की है और कहा है कि उनकी पार्टी आठ जनवरी को होने वाले चुनाव का बहिष्कार करेगी.

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की नेता बेनज़ीर भुट्टो दो बार देश की प्रधानमंत्री रहीं और वे जनवरी में होने वाले चुनाव के मद्देनज़र चुनावी सभा कर रही थी. पाकिस्तान लौटने के बाद उन पर ये दूसरा आत्मघाती हमला था.

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है