पाकिस्तान ने माना, कसाब हमारा नागरिक

अजमल कसाब

मोहम्मद अजमल अमीर कसाब के पिता ने भी अपने बेटे की शिनाख़्त की थी.

पाकिस्तान की सूचना मंत्री शेरी रहमान ने स्वीकार किया है कि अजमल कसाब पाकिस्तानी नागरिक है.

नवंबर 2008 में हुए मुंबई हमलों के दौरान केवल एक हमलावर को ज़िंदा पकड़ा गया था और वो कसाब था.

शेरी रहमान ने एसएमएस के ज़रिए पत्रकारों को बताया कि अजमल कसाब का संबंध पाकिस्तान से है और मामले की जाँच चल रही है.

अब तक पाकिस्तान इस बात से इनकार करता आया है कि कसाब पाकिस्तान का नागरिक है. भारत सरकार ने कसाब का लिखा हुआ एक पत्र दिल्ली में पाकिस्तानी दूतावास को हाल ही में सौंपा था जिसमें कसाब ने अपने और बाकी हमलावरों के पाकिस्तानी होने की बात स्वीकार की थी.

इस पत्र के मिलने के बाद पाकिस्तान गृह मंत्रालय के प्रमुख रहमान मलिक ने कहा था कि पाकिस्तान के राष्ट्रीय डाटाबेस एवं पंजीकरण प्राधिकरण में अजमल आमिर इमाम उर्फ़ अजमल कसाब नाम का कोई व्यक्ति नहीं है.

कसाब का रिकॉर्ड

मोहम्मद अजमल अमीर कसाब के पिता ने भी पाकिस्तान के प्रतिष्ठित समाचारपत्र 'डॉन' से बातचीत में अपने बेटे की शिनाख़्त की थी.

अजमल के पिता अमीर कसाब ने कहा था कि मीडिया में जिस युवक की तस्वीरें दिखाई जा रही हैं वह उनका बेटा ही है.

बीबीसी के संवाददाता अली सलमान ने सबसे पहले फ़रीदकोट जाकर ये ख़बर दी थी कि इस बात के पूरे आसार दिख रहे हैं कि अजमल उसी गाँव का रहने वाला है.

कसाब मुंबई में पुलिस हिरासत में है उनकी हिरासत 19 जनवरी तक बढ़ा दी गई है.

उधर मुंबई पर हुए सुनियोजित चरमपंथी हमले के बारे में सौंपे गए सबूतों पर पाकिस्तान की प्रतिक्रिया को भारत ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

भारत सरकार ने पाँच जनवरी को पाकिस्तान को मुंबई हमलों से संबंधित सबूत सौंपे हैं लेकिन भारत सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा है कि यह 'बहुत दुर्भाग्यपूर्ण' है कि पाकिस्तान ने पहले की ही तरह तथ्यों, सबूतों और वास्तविकता को नकार दिया है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.