सईद की रिहाई पर अपील

हाफ़िज़ मोहम्मद सईद

संयुक्त राष्ट्र ने जमात-उद-दावा को 'आतंकवादी संगठन' घोषित कर दिया है

पाकिस्तान सरकार और पंजाब प्रांत के अधिकारियों ने जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफ़िज़ मोहम्मद सईद की नज़रबंदी ख़त्म किए जाने के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में दो याचिकाएँ दायर कीं है.

हाफ़िज़ मोहम्मद सईद की पिछले साल 26 नवंबर को मुंबई पर हुए चरमपंथी हमलों में भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को तलाश है.

मुंबई हमलों के बाद संयुक्त राष्ट्र ने जमात-उल-दावा को 'आतंकवादी संगठन' घोषित कर दिया था जिसके बाद पाकिस्तान में इस संगठन पर कार्रवाई शुरू कर दी गई थी.

नज़रबंदी

इसके तहत 12 दिसंबर, 2008 हाफ़िज़ मोहम्मद सईद और उनके कुछ सहयोगियों को एक महीने के लिए उनके घर में ही नज़रबंद कर दिया गया था, बाद में नज़रबंदी की मियाद बढ़ा दी गई थी.

क़रीब छह महीने की नज़रबंदी के बाद सईद को लाहौर हाई कोर्ट के निर्देश पर दो जून को रिहा कर दिया गया था.

हाई कोर्ट ने सईद की रिहाई के आदेश देते हुए कहा था कि सरकार उनके मुंबई हमलों में शामिल होने का कोई सबूत नहीं दे पाई है.

सईद चरमपंथी संगठन लश्करे तैबा के संस्थापक हैं. उन्होंने 2001 में लश्कर का नेतृत्व छोड़कर जमात-उद-दावा की कमान संभाल ली थी.

जमात-उद-दावा को एक इस्लामी कल्याणकारी संस्था बताया जाता है लेकिन भारत का आरोप है कि लश्कर पर पाबंदी के बाद चरमपंथी कार्रवाइयों के लिए इस संस्था का इस्तेमाल किया जाने लगा है.

हालाँकि सईद ने कहा था कि वे एक कल्याणकारी संस्था चलाते हैं जिसका मुंबई के हमलों से कोई लेना देना नहीं है.

लेकिन भारत का कहना है कि जमात-उद-दावा असल में लश्करे तैबा का ही बदला हुआ नाम है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.