हेलमंद में दो ब्रितानी सैनिक मारे गए

हेलमंद में तैनात एक सैनिक
Image caption ब्रितानी सेना के किसी सर्वोच्च सैन्य अधिकारी की मौत भी 1982 के बाद से हेलमंद में ही बुधवार को हुई

ब्रितानी रक्षा मंत्रालय के मुताबिक़ अफ़ग़ानिस्तान में हुए दो अलग-अलग हमलों में दो सैनिक मारे गए हैं.

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक दूसरी बटालियन के मर्सियन रेजीमेंट का एक जवान रॉकेट हमले में मारा गया. वहीं 'द लाइट ड्रगून्स' का एक जवान बम धमाके में मारा गया. शनिवार को हुए इन हादसों की सूचना दोनों सैनिकों के परिवारों को दे दी गई है. हेलमंद प्रांत में हुई इन मौतों के साथ ही 2001 से अब तक अफ़ग़ानिस्तान में मारे जाने वाले ब्रितानी सैनिकों की संख्या 173 हो गई है.

संख्या बढ़ी

1982 के बाद से ब्रितानी सेना के एक सबसे वरिष्ठ अधिकारी की मौत भी बुधवार को हेलमंद में ही हुई.

बुधवार को वेल्श गार्ड की फ़र्स्ट बटालियन के कमांडिंग अफ़सर लेफ़्टिनेंट कर्नल रुपर्ट थॉर्नेलो समेत दो ब्रितानी सैनिक एक हमले में मारे गए थे.

हेलमंद प्रांत में उनकी बख़्तरबंद गाड़ी आईइडी से उड़ा दी गई थी.

रक्षा मंत्रालय का कहना है कि ताज़ा हमला एक अभियान के दौरान हेलमंद प्रांत के गेरशक के निकट शनिवार रात को हुआ. हेलमंद के टास्क फ़ोर्स के प्रवक्ता लेफ़्टिनेंट कर्नल निक रिचर्डसन ने कहा, "हमारे दो सहयोगियों की मौत हमारे लिए एक बड़े आघात के रूप में सामने आई है."

श्रद्धांजलि

उन्होंने कहा, "उन्हें प्यार करने वाले परिवार, दोस्त और कोई और चाहे वे महिला हों या पुरुष, जिन्होंने उनके साथ काम किया है, उन्हें इसका गहरा दुख है. हम उन्हें अपने दिल की गहराइयों से श्रद्धांजलि देते हैं." चरमपंथियों की मज़बूत पकड़ वाले दक्षिण अफ़ग़ानिस्तान में इन दिनों एक विशेष अभियान चल रहा है. इस अभियान में क़रीब सात सौ ब्रितानी सैनिक भाग ले रहे हैं. इसी इलाक़े में चल रहे एक अन्य अभियान में क़रीब चार हज़ार अमरीकी सैनिक शामिल हैं. लेफ़्टिनेंट कर्नल रुपर्ट थॉर्नेलो समेत दो ब्रितानी सैनिक बुधवार को अफ़ग़ानिस्तान में मारे गए थे.

लेफ़्टिनेंट कर्नल थॉर्नेलो वेल्श गार्ड की फ़र्स्ट बटालियन के कमांडिंग अफ़सर थे.हेलमंद प्रांत में उनकी बख़्तरबंद गाड़ी आईइडी से उड़ा दी गई थी. लो समेत दो ब्रितानी सैनिक बुधवार को अफ़ग़ानिस्तान में मारे गए थे.

लेफ़्टिनेंट कर्नल थॉर्नेलो वेल्श गार्ड की फ़र्स्ट बटालियन के कमांडिंग अफ़सर थे.हेलमंद प्रांत में उनकी बख़्तरबंद गाड़ी आईइडी से उड़ा दी गई थी.

संबंधित समाचार