अफ़ग़ानिस्तान: पाँच पुलिसकर्मी मारे गए

अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान चरमपंथियों ने राजधानी काबुल के निकट लोगार प्रांत में एक सरकारी भवन पर क़ब्ज़ा कर लिया है और पुलिस प्रमुख के कार्यालय पर गोलीबारी कर रहे हैं.

Image caption पहले भी चरमपंथियों ने सरकारी इमारतों को निशाना बनाया है

राजधानी पुल-ए-आलम के लोगों का कहना है कि राजधानी काबुल के निकट के इलाक़े को ख़ाली करा लिया गया है. इलाक़े में गोलीबारी भी हो रही है.

चरमपंथियों के रॉकेट हमले में कम से कम पाँच पुलिसकर्मियों के मारे जाने की ख़बर है.

एक अधिकारी ने बताया है कि पहले सरकारी इमारत पर रॉकेट से हमला किया गया और फिर गोलीबारी शुरू हो गई.

ये हमला ऐसे समय हुआ है जब 10 दिन बाद ही अफ़ग़ानिस्तान में चुनाव होने वाले हैं. लोगार प्रांत के एक सरकारी प्रवक्ता दीन मोहम्मद दरविश ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "सरकारी इमारतों पर बहुत क़रीब से हमला किया गया."

हमला

उन्होंने बताया कि सरकारी इमारतों पर हमला करने वालों को सुरक्षा बलों ने घेर रखा है.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया है कि चरमपंथियों ने एक अधूरी इमारत के टॉवर ब्लॉक पर क़ब्ज़ा कर लिया और वहाँ से अन्य सरकारी इमारतों पर रॉकेट दाग़े.

तालेबान के एक प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है और बताया है कि विस्फोटकों के साथ छह लड़ाके इमारत में घुसे हैं.

तालेबान चरमपंथियों ने हाल के महीनों में कई शहरों पर ऐसे ही हमले किए हैं. जुलाई में पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान पर हमले में पाँच लोग मारे गए थे. इसके पहले खोस्त में भी सरकारी इमारतों को निशाना बनाया गया था.

काबुल से बीबीसी संवाददाता मार्टिन पेशेंस का कहना है कि सरकारी इमारतों पर ऐसे हमलों का उद्देश्य अफ़ग़ानिस्तान सरकार के प्रभुत्व को चुनौती देना है.

संबंधित समाचार