कौन हैं तालिबान?

पिछले कुछ सालों में चरमपंथी संगठन तालेबान एक बार फिर अफ़ग़ानिस्तान में बड़ा ख़तरा बनकर उभरा है. तालेबान से पाकिस्तान की स्थिरता को भी ख़तरा है जहाँ उत्तर-पूर्व के इलाक़ों में तालेबान का दबदबा है.

तालेबान का उदय 90 के दशक में उत्तरी पाकिस्तान में हुआ जब अफ़ग़ानिस्तान में सोवियत संघ की सेना वापस जा रही थी.

पशतूनों के नेतृत्व में उभरा तालेबान अफ़ग़ानिस्तान के परिदृश्य पर 1994 में सामने आया.

माना जाता है कि तालेबान सबसे पहले धार्मिक आयोजनों या मदरसों के ज़रिए उभरा जिसमें ज़्यादातर पैसा सऊदी अरब से आता था.

80 के दशक के अंत में सोवियत संघ के अफ़ग़ानिस्तान से जाने के बाद वहाँ कई गुटों में आपसी संघर्ष शुरु हो गया था और मुजाहिद्दीनों से भी लोग परेशान थे.

ऐसे हालात में जब तालेबान का उदय हुआ था तो अफ़ग़ान लोगों ने उसका स्वागत किया था.

तालेबान का उदय

शुरु शुरु में तालेबान की लोकप्रियता इसलिए थी क्योंकि उन्होंने भ्रष्ट्राचर पर लगाम कसी, अव्यवस्था पर अंकुश लगाया और अपने नियंत्रण में आने वाले इलाक़ों को सुरक्षित बनाया ताकि लोग व्यवसाय कर सकें.

दक्षिण-पश्चिम अफ़ग़ानिस्तान से तालेबान ने जल्द ही अपना प्रभाव बढ़ाया. सितंबर 1995 में तालेबान ने ईरान सीमा से लगे हेरात प्रांत पर कब्ज़ा कर लिया.

इसके एक साल बाद तालेबान ने बुरहानुद्दीन रब्बानी सरकार को सत्ता से हटाकर अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल पर क़ब्ज़ा किया.

1998 आते-आते लगभग 90 फ़ीसदी अफ़ग़ानिस्तान पर तालेबान का नियंत्रण हो गया था.

अत्याचार के आरोप

बामियान प्रतिमाओं को तालेबान ने उड़ा दिया था

धीरे-धीरे तालेबान पर मानवाधिकार उल्लंघन और सांस्कृतिक दुर्व्यवहार के आरोप लगे.

जैसे 2001 में अंतरराष्ट्रीय आलोचना के बावजूद तालेबान ने विश्व प्रसिद्ध बामियान बुद्ध प्रतिमाओं को नष्ट कर दिया.

पाक-अफ़ग़ान सीमा पर पशतून इलाक़े में तालेबान का कहना था कि वो वहाँ शांति और सुरक्षा का माहौल लाएगा और सत्ता में आने के बाद शरिया लागू करेगा.

पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान दोनों जगह तालेबान ने या तो इस्लामिक क़ानून के तहत सज़ा लागू करवाई या ख़ुद ही लागू की- जैसे हत्या के दोषियों को सार्वजनिक फाँसी, चोरी के दोषियों के हाथ-पैर काटना.

पुरुषों को दाढ़ी रखने के लिए कहा गया जबकि स्त्रियों को बुर्क़ा पहनने के लिए कहा गया.

तालेबान ने टीवी, सिनेमा और संगीत के प्रति भी कड़ा रवैया अपनाया और 10 वर्ष से ज़्यादा उम्र की लड़कियों के स्कूल जाने पर भी रोक लगाई.

अफ़ग़ानिस्तान पर अमरीकी हमला

दुनिया का ध्यान तालेबान की ओर तब गया जब न्यूयॉर्क में 2001 में हमले किए गए. अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान पर आरोप लगाया गया कि उसने ओसामा बिन लादेन और अल क़ायदा को पनाह दी है जिसे न्यूयॉर्क हमलों को दोषी बताया जा रहा था.

सात अक्तूबर 2001 में अमरीका के नेतृत्व वाले गठबंधन ने अफ़ग़ानिस्तान पर हमला कर दिया.

9 /11 के कुछ समय बाद ही अमरीका के नेतृत्व में गठबंधन सेना ने तालेबान को अफ़ग़ानिस्तान में सत्ता से बेदख़ल कर दिया हालांकि तालेबान के नेता मुल्ला उमर और अल क़ायदा के बिन लादेन को नहीं पकड़ा जा सका.

पाकिस्तान इस बात से इनकार करता रहा है कि तालेबान के उदय के पीछे उसका ही हाथ रहा है. लेकिन इस बात में शायद ही कोई शक़ है कि तालेबान के शुरुआती लड़ाकों ने पाकिस्तान के मदरसों में शिक्षा ली.

90 के दशक से लेकर 2001 तक जब तालेबान अफ़ग़ानिस्तान में सत्ता में था तो केवल तीन देशों ने उसे मान्यता दी थी-पाकिस्तान, संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब. तालेबान के साथ कूटनीतिक संबंध तोड़ने वाला भी पाकिस्तान आख़िरी देश था.

तालेबान ने फिर सर उठाया

पिछले कुछ समय से अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान का दबदबा फिर से बढ़ा है और वो पाकिस्तान में भी मज़बूत हुआ है. विशलेषकों का कहना है कि वहाँ तालेबान और कई चरमपंथी संगठनों में आपसी तालमेल है.

पाकिस्तानी धड़े के मुखिया बैतुल्लाह महसूद रहे हैं जिनके संगठन तहरीक तालेबान पाकिस्तान पर कई आत्मघाती हमले करने का आरोप है. कुछ दिन पहले अमरीका और पाकिस्तान ने दावा किया था कि बैतुल्लाह महसूद ड्रोन हमले में मारे गए हैं लेकिन तालेबान इससे इनकार कर रहा है.

माना जाता है कि अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान का नेतृत्व अब भी मुल्ला उमर के हाथों में है. 1980 में सोविघत संघ की सेना के साथ लड़ते हुए उनकी एक आँख चली गई थी.

उमर और उनके साथी अब तक पकड़ से बाहर हैं और माना जाता है कि वे फिर से सर उठा रहे तालेबान को दिशा निर्देश देते हैं.

हालांकि अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान दोनों जगह अब इन लोगों पर पाकिस्तानी सेना और नैटो का दबाव बढ़ रहा है.

अफ़ग़ानिस्तान में नैटो ने सैनिकों की संख्या लगातार बढ़ाई है लेकिन बावजूद उसके तालेबान का प्रभाव बढ़ता जा रहा है. अफ़ग़ानिस्तान में हिंसक हमले लगातार बढ़े हैं- 2001 के बाद से ऐसी हिंसा नहीं देखी गई.

इस दशक के शुरुआत में तालेबान कुछ समय के लिए पीछे ज़रूर हटा था और इस दौरान उसके कम लड़ाके हताहत हुए और साथ ही उसने अपना ज़खीरा भी बढ़ाया. इस कारण अब तालेबान पूरे ज़ोर के साथ वापस लौटा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.