पाकिस्तान में किन्नरों को राहत

किन्नर

किन्नरों को भारी भेदभाव का सामना करना पड़ता है

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने किन्नरों को मुफ़्त शिक्षा और चिकित्सा की सुविधाएँ प्रदान करने के आदेश दिए हैं.

मुख्य न्यायधीश ने मंगलवार को किन्नरों से संबंधी एक याचिका पर फैसला सुनाते हुए चारों प्रांतों और इस्लामाबाद प्रशासन को यह आदेश दिए.

उन्हों ने पुलिस को भी आदेश दिया कि वह किन्नरों का शोषण न करें और उन के ख़िलाफ़ झूठे मुक़दमे दर्ज न करें.

जस्टिस इफ़्तिख़ार ने पुलिस को यह भी आदेश दिया कि यदि किन्नरों के ख़िलाफ़ कोई मुक़्क़दमा दर्ज किया जाए तो उस की सूचना सुप्रीम कोर्ट ज़रूर दी जाए

मुख्य न्यायधीश ने कहा कि किन्नरों के ख़िलाफ़ इस तरह की कोई भी कार्रवाई समाजिक कल्याण विभाग और किन्नरों की संस्था के प्रतिनिधि की मौजूदगी में हो.

उन्हों ने चारों प्रांतों के गृह सचिवों को आदेश दिया कि वह किन्नरों के लिए ज़िला और तालुक़ा के स्तर पर प्रतिनिधि नियुक्त करें जो किन्नरों के साथ संपर्क रखे और उन की समस्याएँ हल करने में मदद करे.

मुख्य न्यायधीश ने शिक्षा सचिव को आदेश दिया कि किन्नरों को शिक्षा के अवसर प्रदान किए जाएँ ताकि वे समाज में अपने लिए एक बहतर स्थान प्रदान कर सकें.

उन्हों ने स्वास्थ्य विभाग के सचिव को भी आदेश दिए कि किन्नरों को चिकित्सा की सुविधाएँ प्रदान की जाएँ और उन के मेडिकल टेस्टस भी किए जाएँ.

उन्हों ने चारों प्रांतों को किन्नरों के पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी करने के आदेश दिए और कहा कि इस प्रक्रिया को दो महीनों के भीतर पूरा किया जाए.

अदालत में तीनों प्रांतों ने अब तक की रिपोर्ट पेश की. रिपोर्टों के अनुसार पंजाब प्रांत में 2167 किन्नरों को पंजीकृत किया गया है, पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत में 324 और बलूचिस्तान के 14 ज़िलों में 56 किन्नर का पंजीकरण हुआ है. सिंध प्रांत ने किन्नरों के पंजीकरण की रिपोर्ट अदालत में पेश नहीं की.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.