अफ़ग़ान चुनाव शिकायत आयोग की चिंता

मतगणना
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में प्रत्येक मतगणना केंद्र पर हाथों से मतों की गिनती हो रही है

अफ़ग़ानिस्तान के चुनाव शिकायत आयोग का कहना है कि चुनाव में गड़बड़ी की जितनी शिकायतें आई हैं उससे चुनाव के नतीजे पर असर पड़ सकता है.

इस आयोग के अध्यक्ष ग्रैंट किप्पेन ने काबुल में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उनके पास 225 शिकायतें आई हैं जिनमें 35 की जाँच प्राथमिकता से की जा रही है.

उन्होंने कहा कि इन शिकायतों में मतदाताओं को डराने-धमकाने, मार-पीट, मतपेटियों से छेड़छाड़ और चुनाव अधिकारियों का व्यवहार से संबंधित शिकायतें की गई हैं.

चुनाव में अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई को चुनौती देनेवाले उम्मीदवार अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने भी कहा है कि उनके पास इस बात के प्रमाण हैं कि चुनाव में हामिद करज़ई को जितवाने के लिए धाँधली की गई है.

20 अगस्त को चुनाव होने के बाद से अफ़ग़ानिस्तान में 6200 मतगणना केंद्रों पर मतों की हाथ से गिनती हो रही है.

चुनाव के प्रारंभिक परिणाम आनेवाले कुछ दिनों आ सकते हैं मगर चुनाव के अंतिम परिणाम घोषित होने में कई सप्ताह लग सकते हैं.

हालाँकि राष्ट्रपति चुनाव में दोनों मुख्य दावेदारों - राष्ट्रपति हामिद करज़ई और अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने पहले ही अपनी-अपनी बढ़त के दावे कर दिए हैं.

वैसे चुनाव में उम्मीदवारों की संख्या 30 से अधिक है.

मतगणना में किसी भी उम्मीदवार के 50 प्रतिशत मत हासिल नहीं करने की सूरत में पहले दो उम्मीदवारों के बीच दोबारा चुनाव हो सकता है.

इस बीच अफ़ग़ानिस्तान के लिए अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के दूत रिचर्ड होलब्रुक ने कहा है कि अफ़ग़ान चुनाव के बारे में कोई निश्चित राय बनाने से पहले लोगों को परिणाम निकलने की प्रतीक्षा करनी चाहिए.

अफ़ग़ानिस्तान के हेरात प्रांत की यात्रा के दौरान होलब्रुक ने कहा,"हमारे यहाँ अमरीका में भी चुनाव में विवाद हुए थे. यहाँ भी कुछ सवाल उठाए जा सकते हैं, मुझे इसपर हैरानी नहीं है, मुझे तो बल्कि उम्मीद थी ही कि ऐसा कुछ होगा".

होलब्रुक ने कहा कि वे अभी अफ़ग़ान चुनाव आयोग के फ़ैसले की प्रतीक्षा कर रहे हैं और अमरीका व अंतरराष्ट्रीय समुदाय अफ़ग़ानिस्तान की चुनाव प्रक्रिया का सम्मान करेंगे.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है