स्वात में 22 शव मिले

स्वात
Image caption एक प्रमुख मानवाधिकार संगठन ने इसे गंभीर मामला बताते हुए इसकी व्यापक जाँच की माँग की है

पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम में स्थित स्वात घाटी में गाँववासियों को 22 संदिग्ध तालेबान चरमपंथियों के शव मिले हैं. ये स्वात के ग्रामीण इलाक़े में मिले हैं.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान की सेना ने इस साल की शुरुआत में तालेबान के ख़िलाफ़ बड़े सैन्य अभियान के बाद स्वात घाटी पर अपन नियंत्रण कायम किया है.

मानवाधिकार संगठनों और कुछ स्थानीय लोगों ने सुरक्षा बलों पर आरोप लगाया है कि उन्होंने संदिग्ध तालेबान चरमपंथियों को 'मुकदमा चलाए बिना और न्याय प्रक्रिया का पालन किए बिना जान से मार दिया है.'

लेकिन पाकिस्तान की सेना ने इसका खंडन किया है और कहा है कि संभव है कि इन लोगों की मौत स्थानीय लोगों के बदला लेने की कार्रवाई के तहत हुई है.

पाकिस्तान की ग़ैरसरकारी मानवाधिकार संस्था - इंडीपेंडेंट ह्यूमन राइट्स कमीशन ऑफ़ पाकिस्तान के आईए रहमान का कहना था, "हम उचित जाँच की माँग करते हैं ताकि पता चले कि इन लोगों को किसने मारा है. ये भी पता चलना चाहिए के ये लोग कौन थे - चरमपंथी, निर्दोष लोग या फिर इन घटनाओं से कोई संबंध न रखने वाले आम नागरिक. हम पहले ही जाँच की माँग कर चुके हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है. यह एक गंभीर मुद्दा है."

आर्थिक मदद की माँग

उधर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने आर्थिक मदद देने वाले देशों से अनुरोध किया है कि पाकिस्तान को अरबों डॉलर की मदद दें.

उनका कहा है कि पाकिस्तान को इस मदद का वादा किया गया था और तालेबान के ख़िलाफ़ जंग में हासिल की गई उपलब्धी को कायम रखने के लिए ये ज़रूरी है.

तुर्की में फ़्रेंड्स ऑफ़ डेमोक्रेटिक पाकिस्तान नामक अंतरराष्ट्रीय दाता देशों की एक संस्था की बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आर्थिक मदद की इसलिए ज़रूरत है ताकि वह उन क्षेत्रों में लोगों के दिल और दिमाग जीत सके जहाँ तालेबान को हटा कर कब्ज़ा किया गया है.

उनका कहना था कि विस्थापित हुए लोगों को लौटने में मदद करनी होगी ताकि वे दोबारा जीवन शुरु कर सकें और इसके लिए पैसे की ज़रूरत है.

संबंधित समाचार