नैटो ने जाँच का वादा किया

नैटो ने उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान के कुंदूज़ प्रांत में हुए हवाई हमले की जाँच का वादा किया है. दो तेल टैंकरों को निशाना बनाकर किए गए नैटो के हमले में बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो गई.

Image caption कुंदूज़ हमला की जाँच कराएगा नैटो

मारे गए लोगों की संख्या को लेकर तरह-तरह की ख़बरें हैं. रिपोर्टों में मरने वालों की संख्या 56 से लेकर 90 तक बताई जा रही है.

यही स्थिति इस हमले में आम नागरिकों और चरमपंथियों के मारे जाने को लेकर है. अलग-अलग रिपोर्टों में इनकी संख्या भी अलग-अलग बताई जा रही है.

नैटो की अगुआई वाली सेना का कहना है कि इस हमले में कई तालेबान चरमपंथी मारे गए हैं, जिन्होंने इन तेल टैंकरों को छीन लिया था.

हालाँकि सेना ने यह भी स्वीकार किया है कि हमले में कई आम नागरिकों के मारे जाने की भी रिपोर्ट उसके पास है.

खेद

नैटो ने इस पर खेद भी व्यक्त किया है. अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने कहा है कि आम नागरिकों को निशाना बनाना 'अस्वीकार्य' है. उन्होंने इस घटना की जाँच के लिए एक आयोग का भी गठन किया है.

राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने इस घटना पर दुख व्यक्त किया है और इस बात पर ज़ोर दिया है कि किसी भी सैनिक कार्रवाई के दौरान आम नागरिक न तो मारे जाने चाहिए और न ही घायल होने चाहिए.

अमरीका और नैटो दोनों ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि इस मामले की पूरी जाँच होगी.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने कहा, "ये स्पष्ट है कि किसी भी समय इस तरह के संघर्ष के दौरान लोगों की जान जाती है ख़ासकर आम लोगों की. ये ऐसी बात है, जिस पर हमने पहले भी चिंता जताई है और इस पर हमारी चिंता बनी हुई है."

दूसरी ओर नैटो के महासचिव जनरल एंडर्स रासमूसेन ने कहा कि हालाँकि इस हमले में कई तालेबान चरमपंथी मारे गए हैं, लेकिन आम लोगों के मारे जाने की भी आशंका है.

कार्रवाई

उन्होंने कहा, "नैटो की अगुआई वाली सेना की कार्रवाई में मारे गए आम लोगों की संख्या पिछले साल के मुक़ाबले 95 प्रतिशत कम हुई है. लेकिन जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ऐसे संघर्ष में ग़लतियाँ हो सकती हैं. मौजूदा मामले में हम देखेंगे कि जाँच का नतीजा क्या आता है."

यूरोपीय सरकारों ने भी आम लोगों के मारे जाने को लोकर चिंता जताई है और तुरंत जाँच की मांग की है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री डेविड मिलिबैंड ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में अपने मिशन के लिए नैटो को अफ़ग़ान लोगों के प्रति वचनबद्धता की ज़रूरत है और ऐसी घटनाएँ इसे कम करती हैं.

उन्होंने कहा, "इसलिए ये अहम है कि जो भी हुआ, उस पर पूरी तरह खुले और स्पष्ट रूप से सामने आए. साथ में ये सुनिश्चित भी करें कि ऐसा फिर नहीं होगा."

कुंदूज़ की घटना ऐसे समय हुई है जब हाल ही में अफ़ग़ानिस्तान में अंतरराष्ट्रीय सेनाओं के प्रमुख जनरल स्टैनले मैक्रिस्टल ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जिसमें कहा गया है कि आम नागरिकों की मौत को रोकने के लिए बहुत कुछ करने की आवश्यकता है.

संबंधित समाचार