ब्रितानी पत्रकार रिहा, साथी मारा गया

फ़ैरल
Image caption फ़ैरल उत्तरी कुंदुज़ में अपने अफ़ग़ान सहयोगी के साथ नैटो के हमले की जाँच करने गए थे

अफ़ग़ानिस्तान में नैटो के सैनिकों ने एक नाटकीय अभियान में हेलिकॉप्टर के इस्तेमाल से एक ऐसे ब्रितानी पत्रकार को रिहा करा लिया है जिसका अपहरण किया गया था. लेकिन इस दौरान उनके एक अफ़ग़ान सहयोगी, एक ब्रितानी सैनिक और दो आम नागरिक मारे गए हैं.

स्थानीय अधिकारियों के अनुसार अंधेरे में नैटों सैनिकों ने इस अभियान को अंजाम दिया.

निशाना थी उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान से संबंधित एक घर की परिसर जहाँ न्यूयॉर्क टाइम्स के पत्रकार स्टीफ़न फ़ैरल और उनके सहयोगी सुलतान मुनादी को उनके अपहरण के बाद रखा गया था.

नैटो हमले की जाँच कर रहे थे

उत्तरी कुंदुज़ प्रांत में इन दोनों का शनिवार को अपहरण हो गया था.

उस समय ये लोग नैटो के एक हवाई हमले की जाँच कर रहे थे जिसमें कब्ज़े में लिए गए दो टैंकरों को हवाई फ़ायर का निशाना बनाया गया था.

ग़ौरतलब है कि ये पहले मौक़ा नहीं है कि फ़ैरल का अपहरण हुआ है. इससे पहले वर्ष 2004 में उनका थोड़ी देर के लिए अपहरण हुआ था जब वे लंदन टाइम्स के संवाददाता थे.

न्यूयॉर्क टाइम्स में फ़ैरल के हवाले से बताया गया है कि जैसे ही हेलिकॉप्टर घर की परिसर में उतरे तो तालेबान ने वहाँ से भागने की कोशिश की थी.

अख़बार के अनुसार, फ़ैरल ने बताया, "हमारे चारों ओर गोलियाँ चल रही थीं. मुझे ब्रितानियों और अफ़ग़ान लोगों की आवाज़े सुनाई दे रही थीं."

उधर अफ़ग़ान पत्रकारों एक एसोसिएशन ने कहा कि यदि नैटो सैनिकों ने और ध्यानपूर्वक कार्रवाई की होती तो शायद मुनादी बच जाते.

संबंधित समाचार