राशन पाने की क़तार में भगदड़, 14 की मौत

कराची में मची भगदड़ में घायल लोग
Image caption बहुत सी महिलाएँ और बच्चे मुफ़्त आटा पाने के लिए आए थे कि कुछ को मौत ने घेर लिया

पाकिस्तान के कराची शहर में मुफ़्त राशन पाने के लिए मची भगदड़ में कम से कम 14 महिलाओं और बच्चों की मौत हो गई है और अनेक अन्य घायल हो गए हैं.

मुसलमानों के पवित्र महीने रमज़ान के दौरान एक संगठन ने कराची के एक ग़रीब और घनी आबादी वाले इलाक़े में मुफ़्त आटा बाँटना शुरू किया था.

मुफ़्त आटा पाने के लिए सैकड़ों की संख्या में महिलाएँ और बच्चे इकट्ठा हो गए थे.

पाकिस्तानी टेलीविज़न पर दिखाई गई तस्वारों में पता चलता है कि किस तरह से घायल हुए लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कराची के पुलिस प्रमुख वसीम अहमद ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "खोरी गार्डन बस्ती में भगदड़ मचने और लोगों का दम घुटने से ये मौतें हुई हैं. यह बहुत ही घनी आबादी वाली बस्ती है."

पुलिस अधिकारी ने कहा कि जो व्यक्ति मुफ़्त आटा बाँट रहा था, उसे गिरफ़्तार कर लिया गया है क्योंकि उसने पुलिस को इसकी पूर्व सूचना नहीं दी थी.

पाकिस्तान की सरकारी एजेंसी एपीपी के अनुसार राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने इस घटना में हुई मौतों पर दुख प्रकट किया है और तत्काल जाँच के आदेश दिए हैं.

भगदड़ में फँसी और जीवित बच गई एक किशोरी 13 वर्षीय सीमा बीबी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि लोग भारी संख्या में सीढ़ियाँ चढ़ रहे थे कि तभी बिजली चली गई और तभी लोग अंधेरे में एक दूसरे पर गिरना शुरू हो गए.

सीमा बीबी ने कहा, "हम सीढ़ियाँ चढ़ रहे थे कि तभी बिजली गुल हो गई. मैं भी बेहोश हो गई थी."

रमज़ान महीने के दौरान बहुत से मुस्लिम ग़रीब लोगों को मुफ़्त राशन और अन्य सामान बाँटते हैं.