काबुल धमाका, कई हताहत

काबुल में विस्फोट
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में इतालवी सैनिकों पर यह ख़ासा बड़ा हमला था

अफ़ग़ान रक्षा अधिकारियों ने बताया है कि गुरूवार को राजधानी काबुल में एक सैनिक काफ़िले पर बम से हमला हुआ है जिसमें कम से कम छह इतालवी सैनिक और तीन आम लोग मारे गए.

अधिकारियों के अनुसार यह कार बम के ज़रिए किया गया एक आत्मघाती हमला था जिसमें दो सैनिक वाहनों को निशाना बनाया गया. इस हमले में अनेक आम लोग घायल भी हुए हैं. चार इतालवी सैनिक भी घायल बताए गए हैं.

कुछ ऐसी भी ख़बरें मिली हैं कि इस हमले में लगभग 10 आम अफ़ग़ान लोग मारे गए हैं.

यह हमला काबुल के उस इलाक़े में हुआ जहाँ कूटनीतिक इमारतें हैं और यह काबुल के बीचोंबीच है जिसे विशिष्ठ क्षेत्र समझा जाता है.

यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने अगस्त में हुए चुनाव को सही मानते हुए उनमें अपना विश्वास जताया था.

जबकि विपक्षी उम्मीदवार अब्दुल्लाह-अब्दुल्लाह के अलावा अनेक संगठनों और अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधियों ने उस चुनाव में गड़बड़ियाँ होने के भी आरोप लगाए हैं.

हमला भीषण

स्थानीय लोगों का कहना है कि विस्फोट सामग्री से भरा एक वाहन काबुल में उस रास्ते पर एक इतालवी सैनिक काफ़िले से टकरा दिया गया. उस समय ये काफ़िला व्स्त हवाई अड्डा मार्ग पर से गुज़र रहा था.

काबुल के प्रमुख आपराधिक जाँच पुलिस अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा, "यह एक आत्मघाती कार बम हमला था... यह हमला इतालवी सेनाओं के विरुद्ध था."

स्थानीय लोगों का कहना था कि हमले से इतना शक्तिशाली विस्फोट हुआ कि आसपास की इमारतें हिल गईं और धुँए का बड़ा बादल छा गया. इस विस्फोट से आसपास के इलाक़े में ख़ासा बड़ा नुक़सान हुआ और अनेक दुकानें बुरी तरह तबाह हो गईं.

एक छात्र जमाल नासिर पास में ही अपनी कार से गुज़र रहा था और उसका कहना था कि इस विस्फोट से बहुत ही ज़ोरदार धमाका हुआ था.

जमाल नासिर ने बीबीसी से बातचीत में कहा, "मुझे पीछे काले धुँए का बादल साफ़ दिखाई दे रहा था... हर तरफ़ शोर और अफ़रातफ़री मची थी और लोग अपने वाहनों का हॉर्न बजाए जा रहे थे. लोग जैसे एक दूसरे पर गिरे जा रहे थे और घबराहट में बहुत से लोग अपनी कारों को पैदल चलने वाले रास्तों पर भी चलाने लगे थे."

काबुल में वर्ष 2009 में अनेक बम विस्फोट हुए हैं.

अगस्त में राष्ट्रपति पद के चुनाव के तुरंत बाद भी काबुल में नैटो के मुख्यालय को एक कार आत्मघाती हमले का निशाना बनाया गया था जिसमें कम से कम दस लोग मारे गए थे.

संबंधित समाचार