सईद की नज़रबंदी काफ़ी नहीं: चिदंबरम

मुंबई हमले
Image caption भारत का कहना है कि मुंबई हमलों में हाफ़िज सईद का हाथ था.

पाकिस्तान पुलिस ने जमात उद दावा के प्रमुख हाफ़िज मोहम्मद सईद को 'नज़रबंद' कर दिया है.

उनकी नज़रबंदी पर भारतीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने सोमवार को चेन्नई में कहा कि अब हाफ़िज सईद से मुंबई हमलों के बारे में पूछताछ की जानी चाहिए.

चिदंबरम ने कहा, "मुझे पता है कि पुलिस ने उन्हें जिन दो एफ़आईआर के तहत गिरफ़्तार किया है, उनका 26/11 हमलों से लेना-देना नहीं है. लेकिन पाकिस्तान ने अगर अपना चेहरा छिपाने के लिए ही ऐसा किया है, तो भी मैं इस क़दम का स्वागत करता हूँ."

चिदंबरम ने स्पष्ट किया कि मुंबई हमलों में हाफ़िज सईद का हाथ होने के संबंध में सारे सबूत पाकिस्तान को दिए जा चुके हैं.

उनका कहना है, "जब पाकिस्तान सबूत की बात करता है तो मैं कह दूं कि हाफ़िज के बारे में सारे सबूत पाकिस्तान की सरज़मीं में है, भारत में नहीं."

इस बीच हाफ़िज सईद के रिश्तेदारों का कहना है कि पाकिस्तान पुलिस ने भारत के दबाव में आकर हाफ़िज सईद को गिरफ़्तार किया है.

इससे पहले शनिवार को ही पाकिस्तान के गृहमंत्री रहमान मलिक ने कहा था कि भारत को हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ पुख़्ता सबूत देना चाहिए जिससे कि उसे अदालत में पेश किया जा सके, वरना वे फिर छूट जाएँगे.

'नज़रबंद'

Image caption हाफ़िज सईद जमात उद दावा के प्रमुख हैं.

लाहौर में बीबीसी संवाददाता इबादुल हक़ का कहना है कि पुलिस ने न तो ये कहा है कि हाफ़िज़ सईद को गिफ़्तार किया जा रहा है और न ही ये कहा है कि उन्हें नज़रबंद किया जा रहा है.

उनका कहना है कि पुलिस ने उनकी सुरक्षा का हवाला देते हुए उनकी गतिविधियों को सीमित रखने को कहा है.

लेकिन हाफ़िज़ सईद के दामाद ख़ालिद वलीद का कहना है कि लाहौर के पुलिस अधीक्षक ने घर पर आकर कहा है कि उनकी सुरक्षा को ख़तरा है इसलिए वे अब घर तक पाबंद रहेंगे.

उनका कहना है कि घर के बाहर पुलिस तैनात है.

हाफ़िज़ सईद, हर साल ईद पर लाहौर के गद्दाफ़ी स्टेडियम में ईद की नमाज़ पढ़ाते आए हैं, लेकिन सोमवार को वे ऐसा नहीं कर सकेंगे.

ख़ालिद वलीद का कहना है कि सालों में पहली बार ऐसा होगा कि हाफ़िज़ सईद ईद की नमाज़ नहीं पढ़ाएँगे.

मामले

बीबीसी से हुई बातचीत में ख़ालिद वलीद ने कहा, "सरासर इंडिया के दबाव में आकर ऐसा क़दम उठाया गया है."

उनका कहना है कि मुंबई में हुए हमलों में हाफ़िज़ सईद के शामिल होने की बात बेबुनियाद है और यह भारत का दुष्प्रचार है.

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि उन पर जो आरोप लगाए थे उसे अदालत ने ख़ारिज कर दिया है.

ख़ालिद वलीद ने स्वीकार किया कि दो दिन पहल हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ दो और मामले दर्ज किए गए हैं. उनका कहना था कि एफ़आईआर में उन पर क़ुरान का हवाला देते हुए अमरीका और भारत के ख़िलाफ़ जेहाद के लिए भड़काने का आरोप है.

उल्लेखनीय है कि न्यूयॉर्क में होने जा रहे संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की मुलाक़ात होने की संभावना है.

समझा जा रहा है कि चूंकि भारत लगातार पाकिस्तान पर दबाव बना रहा है कि वह हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ कार्रवाई करे, इसलिए इस मुलाक़ात से पहले पाकिस्तान ने यह प्रतीकात्मक कार्रवाई की है.

संबंधित समाचार