माओवादियों नें रेल पटरी उडाई

माओवादी
Image caption माओवादियों के बंद से जनजीवन प्रभावित हुआ

चौबीस घंटों के देशव्यापी बंद के दौरान माओवादियों नें शनिवार तड़के झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम इलाक़े में महासाल रेलवे स्टेशन के पास एक ज़ोरदार विस्फोट कर रेल पटरियों को उड़ा दिया है.

अपने वरिष्ठ साथी और संगठन के पोलित ब्यूरो के सदस्य कोबाड़ गांधी और पश्चिम बंगाल के लालगढ़ आंदोलन के प्रमुख नेता छत्रधर महतो की गिरफ़्तारी के विरोध में बंद का आह्वान किया गया था. पुलिस नें घटनास्थल से एक और विस्फोटक बरामद किया है. रेलवे अधिकारियों का कहना है कि विस्फोट उस समय हुआ जब कुछ ही मिनटों के बाद वहाँ से नई दिल्ली-हावड़ा राजधानी एक्सप्रेस गुज़रने वाली थी.

घटना के बाद कोलकाता-मुंबई के बीच रेल यातायात प्रभावित हुआ है.

प्रभाव

जैसे ही आधी रात के बाद माओवादियों का बंद प्रभाव में आया, राष्ट्रीय राजमार्गों पर सन्नाटा पसरता चला गया.

वाहन, लंबी दूरी की बसें और ट्रक सड़कों पर से नदारद होने लगे. इसके अलावा निजी वाहनों का भी परिचालन बंद था.

झारखंड के ग्रामीण इलाक़ो में बंद ने जन जीवन को पूरी तरह प्रभावित कर दिया, जहाँ पर दूकानें भी बंद होने की ख़बर है.

छोटानागपुर प्रक्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक राज कुमार मलिक ने बीबीसी को बताया कि रांची-जमशेदपुर राजमार्ग पर पुलिस वाहनों को सुरक्षा दे रही है.

पिछली बार जब माओवादियों नें बंद बुलाया था, तो रांची-जमशेदपुर राजमार्ग पर स्थित मोवाई हिंसा का केंद्र रहा.

राज कुमार मलिक ने बताया कि इस बार विशेष सतर्कता बरती गई थी.

संबंधित समाचार