'अफ़ग़ानिस्तान में सैनिक कम नहीं होंगे'

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में नई रणनीति तैयार करने की परिधि में वहाँ सैनिक कम करना या पूरी तरह से सैनिक हटाना शामिल नहीं है.

हालांकि उन्होंने साफ़-साफ़ शब्दों में ये नहीं कहा कि इसका मतलब होगा कि वे सैनिकों की संख्या बढ़ा रहे हैं जैसा कि अफ़ग़ानिस्तान में वरिष्ठ अमरीकी जनरल चाहते हैं.

उन्होंने ये बात कांग्रेस के वरिष्ठ सदस्यों से बातचीत में कही. अमरीका की दोनों मुख्य पार्टियों के करीब 30 वरिष्ठ नेता और सिनेट समिति के सदस्य बातचीत में शामिल थे.

वर्ष 2001 में अफ़ग़ानिस्तान में तत्कालीन तालेबान सरकार और अल क़ायदा को बाहर निकालने का अमरीकी नेतृत्व में अभियान शुरु हुए आठ साल पूरे होने को हैं.

इसी सिलसिले में बराक ओबामा अफ़ग़ानिस्तान अभियान पर भविष्य की रणनीति तय करने के लिए कई बैठकें कर रहे हैं.

ये चर्चा ऐसे समय हो रही है जब अफ़ग़ानिस्तान में और अमरीकी सैनिक भेजे जाने को लेकर बहस चल रही है.

पिछले हफ़्ते अफ़ग़ानिस्तान में नैटो कमांडर जनरल स्टेनले मैक्क्रिस्टल ने कहा था कि इस अभियान में मानव संसाधन की कमी है और वहाँ एकदम नई रणनीति की ज़रूरत है.

वहीं अमरीकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट्स गेट ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में सैनिक तैनाती पर फ़ैसला लेने के लिए और समय चाहिए.

रक्षा मंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति ओबामा अफ़ग़ानिस्तान पर किसी भी तरह की सलाह का स्वागत करते हैं लेकिन साथ ही कहा कि ये निजी स्तर पर दी जानी चाहिए.

'और समय चाहिए '

बीबीसी के रक्षा मामलों के संवाददाता निक चाइल्स का कहना है कि अक्तूबर 2001 में शायद ही किसी ने सोचा हो कि अफ़ग़ानिस्तान में अभियान शुरु होने के आठ साल बाद भी वहाँ हज़ारों पश्चिमी सैनिक तैनात रहेंगे.

संवाददाता का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान अभियान के आठ साल बाद चरमपंथ दोबारा ज़ोर शोर से लौटा है और हिंसा में बढ़ोतरी हुई है.ओबामा प्रशासन का कहना है कि उसे सही रणनीति तय करने के लिए और समय की ज़रूरत है क्योंकि वो कुछ ही महीने पहले सत्ता में आई है.

लेकिन लोगों में धारणा है कि अमरीका के नेतृत्व में अफ़ग़ानिस्तान अभियान अहम चरण में पहुँच चुका है.

ओबामा प्रशासन पर दबाव है कि वो अफग़ानिस्तान पर नई नीति लेकर आए क्योंकि ये अभियान अपने नौंवे साल में प्रवेश करने वाला है.

वर्ष 2009 के अंत तक अफ़ग़ानिस्तान में अमरीका के 68000 सैनिक तैनात होने हैं.

संबंधित समाचार